असम में आई भयंकर बाढ़ से 54.5 लाख से अधिक लोग अब भी प्रभावित देखें भयंकर बाढ़ की तस्वीरें 

 More than 54.5 lakh people still affected by the severe floods in Assam, see pictures of the severe floods

अधिकांश प्रभावित जिलों में ब्रह्मपुत्र और बराक नदियां अपनी सहायक नदियों के साथ उफान पर हैं और राज्य के कुल 36 जिलों में से 32 जिलों में भूमि का बड़ा हिस्सा जलमग्न हो गया है। हालांकि कुछ जगहों पर बाढ़ का पानी कम हुआ है।

बुलेटिन के अनुसार, दिन के दौरान एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और अन्य एजेंसियों द्वारा राज्य भर में 276 नावों की मदद से कुल 3,658 लोगों को निकाला गया।

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ 

गुवाहाटी। असम में आई भयंकर बाढ़ से लाखों लोग प्रभावित हुए हैं। खबर लिखे जाने तक बाढ़ के कारण गुरुवार को 12 मौतों का आंकड़ा दर्ज हुआ है। इसी के साथ मरने वालों की संख्या बढ़कर 101 हो गई है। अधिकारियों ने बताया कि असम में गुरुवार को बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी हुई है और 54.5 लाख से अधिक लोग अब भी प्रभावित हैं और 12 लोगों की मौत की खबर है। उन्होंने कहा कि मई के मध्य से बाढ़ के कारण मरने वालों की संख्या अब 101 हो गई है।

floods in Assam

अधिकांश प्रभावित जिलों में ब्रह्मपुत्र और बराक नदियां अपनी सहायक नदियों के साथ उफान पर हैं और राज्य के कुल 36 जिलों में से 32 जिलों में भूमि का बड़ा हिस्सा जलमग्न हो गया है। हालांकि कुछ जगहों पर बाढ़ का पानी कम हुआ है। बुलेटिन के अनुसार, दिन के दौरान एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और अन्य एजेंसियों द्वारा राज्य भर में 276 नावों की मदद से कुल 3,658 लोगों को निकाला गया।

floods in Assam
एक अधिकारी ने बताया कि एनडीआरएफ ने असम के 12 बाढ़ प्रभावित जिलों में 14,500 से अधिक फंसे हुए लोगों को बचाया गया है। एनडीआरएफ की पहली बटालियन आपदा प्रतिक्रिया बल ने प्रभावित जिलों में बचाव अभियान शुरू किया और भारी बाढ़ वाले जिलों में 70 से अधिक नावों और 400 जवानों को तैनात किया है।

floods in Assam

सहायक कमांडेंट संतोष कुमार सिंह ने बताया कि 207 कर्मियों वाली अन्य बटालियनों की आठ अतिरिक्त टीमों को मंगलवार से सिलचर भेजा गया है। एनडीआरएफ द्वारा कामरूप, कामरूप ग्रामीण, बोंगाईगांव, बारपेटा, बजली, होजई, नलबाड़ी, दरंग, तामूलपुर, नगांव, उदलगुरी और कछार में बचाव अभियान चलाया जा रहा है।

floods in Assam

लगातार बारिश के कारण आई विनाशकारी बाढ़ ने 112 राजस्व मंडलों और 4941 गांवों को प्रभावित किया है, जिससे 2,71,125 लोगों को 845 राहत शिविरों में शरण लेने के लिए मजबूर होना पड़ा है।

 यह भी पढ़ें :   एकनाथ शिंदे के फंदे से निकल भागे शिवसेना विधायक कैलाश पाटिल,दोपहिया वाहन और फिर ट्रक वाले से लिफ्ट लेकर मुंबई पहुंचे

Share this story