भाजपा नेता तजिंदर सिंह बग्गा मामले में कोर्ट का देर रात आदेश  मंगलवार तक पुलिस इस मामले में कोई एक्शन न ले

Late night order of the court in BJP leader Tajinder Singh Bagga case, till Tuesday, the police should not take any action in this matter.

Newspoint24/ newsdesk / एजेंसी इनपुट के साथ

नई दिल्ली। भाजपा नेता तजिंदर सिंह बग्गा ने मोहाली कोर्ट के अरेस्ट वारंट के खिलाफ पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी। इस पर देर रात जस्टिस अनूप चितकारा के घर पर सुनवाई हुई। मामले में कोर्ट ने मंगलवार (10 मई) तक उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। कोर्ट ने कहा कि मंगलवार तक पुलिस इस मामले में कोई एक्शन न ले।

हाईकोर्ट के फैसले के बाद बग्गा के पिता ने कहा कि यह खुशी की बात है और सत्य की जीत है। केजरीवाल पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा- लोगों ने उन पर विश्वास किया, लेकिन पुलिस का उपयोग कर वे सच को दबाना चाहते हैं। वहीं हाईकोर्ट के फैसले के बाद भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या ने ट्वीट कर लिखा- न्याय की यह एक और जीत है।

बग्गा के खिलाफ क्या है मामला
पंजाब पुलिस ने 1 अप्रैल 2022 को बग्‍गा के खिलाफ सोशल मीडिया पर झूठे सांप्रदायिक बयान देने, लोगों को भड़काने, नफरत फैलाने की शिकायत पर केस दर्ज किया था। इस मामले में शुक्रवार को बग्गा को पंजाब पुलिस दिल्ली से गिरफ्तार कर ली थी, लेकिन हरियाणा और दिल्ली पुलिस ने उन्हें छुड़ा लिया था।

बग्गा मामले में अब तक क्या क्या हुआ?​​​​​​

1 अप्रैल 2022 को पंजाब पुलिस ने भाजपा नेता बग्‍गा के खिलाफ सोशल मीडिया पर झूठे सांप्रदायिक बयान देने, लोगों को भड़काने, नफरत फैलाने की शिकायत पर केस दर्ज किया।

11 अप्रैल 2022 को पंजाब पुलिस ने तजिंदर पाल बग्गा को पूछताछ के लिए बुलाया, लेकिन बग्गा नहीं पहुंचे।

5 मई 2022 को पंजाब पुलिस बग्गा के दिल्ली वाले आवास पर पहुंची और उन्हें गिरफ्तार कर मोहाली ले जाने लगी, लेकिन दिल्ली पुलिस की सक्रियता की वजह से उन्हें कुरुक्षेत्र से छुड़ा लिया गया।

6 मई को मोहाली कोर्ट ने बग्गा के खिलाफ अरेस्ट वारंट जारी किया। इधर, बग्गा को दिल्ली पुलिस ने हाई लेवल सिक्योरिटी देने की घोषणा की।

कौन है तजिंदर पाल बग्गा

16 साल की उम्र में राजनीति में कदम रखने वाले तजिंदर बग्गा अन्ना आंदोलन के समय केजरीवाल टीम का हिस्सा रहे थे। 23 साल की उम्र में वे भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ता बने। बग्गा ने भगत सिंह क्रांति सेना नाम का एक संगठन भी बनाया है।

बग्गा पहली बार तब सुर्खियों में आए थे, जब उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत भूषण को थप्पड़ जड़ दिया था। 2019 के चुनाव से पहले बग्गा ने 'चौकीदार ही चोर' के खिलाफ 'मैं भी चौकीदार' का मुहिम सोशल मीडिया पर चलाई थी।

यह भी पढ़ें :   बीजेपी नेता तेजिंदर पाल बग्‍गा गिरफ्तार : पंजाब पुलिस के एक्शन पर सियासी पारा हाई, जानिए क्यों हुई गिरफ्तारी

Share this story