आज का पंचांग शनिवार 30 जुलाई 2022 श्रावण शुक्ल पक्ष, द्वितीया  चन्द्र दर्शन, गण्ड मूल राहुकाल सुबह 09:16 से

panchang

शनिवार को चंद्रमा कर्क से निकलकर सिंह राशि में प्रवेश करेगा। सूर्य-बुध कर्क राशि में, शुक्र मिथुन राशि में, शनि मकर राशि (वक्री), मंगल-राहु मेष राशि में, राहु मीन राशि में (वक्री) और केतु तुला राशि में रहेंगे।

शनिवार को पूर्व दिशा में यात्रा करने से बचना चाहिए। पूर्व दिशा में यात्रा करना पड़े तो अदरक, उड़द या तिल खाकर घर से निकलें।

Newspoint24/ज्योतिषाचार्य प. बेचन त्रिपाठी दुर्गा मंदिर , दुर्गा कुंड ,वाराणसी 

panchang

 
आज का पंचांग शनिवार 30 जुलाई 2022  

शनिवार 30 जुलाई 2022 का पंचांग 
30 जुलाई 2022, दिन शनिवार को श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की द्वितिया तिथि रहेगी। शनिवार को सूर्योदय आश्लेषा नक्षत्र में होगा, जो दोपहर 12.13 तक रहेगा, इसके बाद रात अंत तक मघा नक्षत्र रहेगा। शनिवार को पहले आश्लेषा नक्षत्र होने से मानस और उसके बाद मघा नक्षत्र होने से पद्म नाम के 2 शुभ योग इस दिन बन रहे हैं। इनके अलावा व्यातीपात और वारियन नाम के 2 अन्य योग भी इस दिन रहेंगे। इस दिन राहुकाल सुबह 09:16 से 10:55 तक रहेगा। इस दौरान कोई भी शुभ काम न करें।   

ग्रहों की स्थिति कुछ इस प्रकार रहेगी...
शनिवार को चंद्रमा कर्क से निकलकर सिंह राशि में प्रवेश करेगा। सूर्य-बुध कर्क राशि में, शुक्र मिथुन राशि में, शनि मकर राशि (वक्री), मंगल-राहु मेष राशि में, राहु मीन राशि में (वक्री) और केतु तुला राशि में रहेंगे। शनिवार को पूर्व दिशा में यात्रा करने से बचना चाहिए। पूर्व दिशा में यात्रा करना पड़े तो अदरक, उड़द या तिल खाकर घर से निकलें।

शनिवार 30 जुलाई 2022 के पंचांग से जुड़ी अन्य खास बातें
विक्रम संवत- 2079
मास पूर्णिमांत- श्रावण
पक्ष- शुक्ल
दिन- शनिवार
ऋतु- वर्षा
नक्षत्र- आश्लेषा और मघा
करण- बालव और कौलव 
सूर्योदय - 05:24 प्रातः 
सूर्यास्त - 06:45 सायं 
चन्द्रोदय - जुलाई  30 06:31 प्रातः 
चन्द्रास्त - जुलाई 30 08:06 सायं 
तिथि    द्वितीया - 02:59 रात्रि , जुलाई 31 तक उपरांत तृतीया 
योग    व्यतीपात - 07:02 रात्रि तक उपरांत वरीयान्
नक्षत्र    अश्लेशा - 12:13 दोपहर तक उपरांत मघा
चन्द्र राशि    कर्क - 12:13 दोपहर तक उपरांत सिंह
सूर्य राशि    कर्क
विजय मुहूर्त    02:18 दोपहर से 03:11 दोपहर
अभिजीत मुहूर्त - 12:07 दोपहर  – 12:59 दोपहर
अमृत काल    10:27 प्रातः से 12:13 दोपहर

यह भी पढ़ें : 30 जुलाई को सावन का तीसरा शनिवार, इस दिन करें धन लाभ के लिए ये आसान उपाय

30 जुलाई का अशुभ समय (इस दौरान कोई भी शुभ काम न करें)
राहुकाल सुबह 09:16 से 10:55 तक
यम गण्ड - 2:11 दोपहर – 3:49 दोपहर
कुलिक - 6:00 प्रातः  – 7:38 प्रातः
दुर्मुहूर्त - 07:45 प्रातः – 08:37 प्रातः
वर्ज्यम् - 01:16 रात्रि  – 03:01 रात्रि
गण्ड मूल    पूरे दिन

निवास और शूल
होमाहुति    सूर्य
दिशा शूल    पूर्व
अग्निवास    पाताल - 02:59 रात्रि , जुलाई 31 तक उपरांत पृथ्वी
चन्द्र वास    उत्तर - 12:13 दोपहर तक उपरांत पूर्व - 12:13 दोपहर से पूर्ण रात्रि तक
राहु वास    पूर्व
शिववास    गौरी के साथ - 02:59 रात्रि , जुलाई 31 उपरांत सभा में

 

इंद्र योग 
ज्योतिष शास्त्र में 27 शुभ-अशुभ योगों के बारे में बताया गया है। ये पंचांग के 5 अंगों में से एक है। इनमें से छब्बीसवें योग का नाम इंद्र है। जब कुंडली में चंद्रमा से तीसरे स्थान पर मंगल हो और सातवें भाव पर शनि विराजमान हो या फिर शनि से सातवें भाव में शुक्र मौजूद हो और शुक्र से सातवें भाव में गुरु हो तब भी इंद्र योग बनता है। इंद्र योग को शुभ योग माना जाता है। जिसमें राज्य पक्ष के रुके कार्यों को पूर्ण किया जाता है। इस योग में किए गए सभी कार्य पूर्ण होते हैं और उन कार्यों में सफलता प्राप्त होती है।

टिप्पणी: सभी समय 12-घण्टा प्रारूप में वाराणसी, भारत के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।
 

यह भी पढ़ें :  सावन 2022: सावन में किसी भी रात करें 10 रुपए का ये छोटा-सा उपाय, इससे कंगाल भी बन सकता है धनवान

Share this story