हमीरपुर में बारिश के साथ ओलों की बरसात से फसलें चौपट, किसानों ने लगाया जाम

Newspoint24/संवाददाता /एजेंसी इनपुट के साथ

Newspoint24/संवाददाता /एजेंसी इनपुट के साथ

हमीरपुर। जिले में बारिश के साथ आसमान से ओलों की बरसात से दर्जनों गांवों में फसलें चौपट हो गई हैँ। सरसों, मटर, चना और मसूर की फसलें चौपट होते देख किसान मायूस हैँ।

रविवार को क्षतिग्रस्त फसलों को देखने मौके पर अधिकारियों के न पहुंचने पर किसानों में आक्रोश गहरा गया और बड़ी संख्या में किसानों ने कई जगहों पर सड़क पर यातायात जाम कर प्रदर्शन किया। प्रशासन के निर्देश पर राजस्व और कृषि विभाग के कर्मियों ने सर्वे भी शुरू कर दिया है।

पिछले कई दिनों से यहां जिले में लगातार बारिश हो रही है। शनिवार की रात मूसलाधार बारिश के बीच जमकर ओले गिरे, जिससे खेतों में खड़ी फसलें गिर गईं। सरसों, मटर, चना, मसूर एवं अन्य रबी की फसलें ओले बरसने से बर्बाद हो गईं।

राठ, सुमेरपुर, सरीला और कुरारा क्षेत्र के तमाम गांवों में ओलों की बारिश से तगड़ा नुकसान पहुंचा है। रविवार को राठ कस्बे के रामलीला मैदान में गल्हिटा मवई सहित तमाम गांवों के किसानों ने सड़क पर यातायात जाम कर नारेबाजी की।

मौके पर पहुंचे एसडीएम राजेश मिश्रा ने किसी तरह समझाकर जाम खुलवाया। क्षेत्र के नौहाई और बसेला गांवों के तमाम किसानों ने भी पनवाड़ी मार्ग पर मुआवजे की मांग की लेकर जाम लगाया। एसडीएम और विधायक मनीषा अनुरागी सहित अन्य लोग मौके पर पहुंचे।

किसानों को मदद दिलाने का आश्वासन देकर किसी तरह जाम खुलवाया।

इधर जिला कृषि अधिकारी सरस कुमार तिवारी ने रविवार को बताया कि एसडीएम के नेतृत्व में राजस्व और कृषि विभाग के कर्मियों ने न्याय पंचायत स्तर पर सर्वे करने की कार्रवाई शुरू कर दी है।

बीमित किसानों को ओले गिरने से फसलों की हुई क्षति का मुआवजा दावा करने के बाद मिलेगा। इसके लिए किसानों को न्याय पंचायत स्तर पर 72 घंटे के अंदर फसल के नुकसान की सूचना देनी होगी। बीमित किसानों से कर्मचारी फार्म भरवाने की कार्रवाई करेंगे।
 

Share this story