पूर्व मंत्री ने अपने बयान पर जताया खेद, किया स्वयं की आस्तिकता का दावा

Newspoint24/ संवाददाता /एजेंसी इनपुट के साथ

Newspoint24/ संवाददाता /एजेंसी इनपुट के साथ

महोबा। समाजवादी सरकार में खनिज मंत्री रहे वरिष्ठ समाजवादी नेता सिद्धगोपाल साहू ने 24 नवम्बर को सामाजवादी पार्टी के जनसंवाद कार्यक्रम के दौरान सपा प्रदेश नेताओं के सामने खुले मंच से अपनी पार्टी के वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव के पूर्ववर्ती बयान का हवाला देते हुए प्रभु राम व हिन्दुत्व को हवा में उड़ाने की बात कही थी,जिस बयान के बाद तमाम हिन्दू संगठनों, भारतीय जनता पार्टी नेताओं एवं जिले के तमाम सामाजिक संगठनों ने पूर्व मंत्री के बयान का विरोध करते हुए सोशल मीडिया एवं बयानों के माध्यम से जोरदार विरोध करना शुरू कर दिया ।

यहां तक जिले के समाजवादी नेताओं ने भी अपनी ही पार्टी के नेता के बयान से किनारा करते हुए विरोधात्मक रुख अख्तियार किया, जिसके फलस्वरूप पूर्व मंत्री ने अपने फेसबुक पेज पर एक पोस्ट डालते हुए उक्त बयान पर माफी मांगते हुए अपने बयान वापसी की बात कही लेकिन इसके बाद भी हिन्दू संगठनों ने बड़ी संख्या में एकत्र होकर सपा नेता के प्रतिष्ठानों पर पहुंचकर देर शाम "जय श्री राम" के नारे का उद्घोष करते हुए विरोध किया एवं सार्वजनिक रूप से माफी मांगने की बात कही, जिसके फलस्वरूप पूर्व मंत्री को सार्वजनिक रूप से पत्रकारों के सामने अपनी आस्तिकता का दावा करते हुए बयान पर माफी मांगनी पड़ी।

हिंदू संगठनों के कड़े विरोध को देख सपा के वरिष्ठ नेता चुप्पी साध गए हैं, समुदाय विशेष को खुश करने के उद्देश्य से दिए गए हिन्दू विरोधी बयान एवं बहुसंख्यक समाज के आराध्य श्री राम पर की गई पूर्व मंत्री की टिप्पणी अब सपा की गले की फांस बनती नजर आ रही है।
 

Share this story