मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर देहात में पाकिस्तान से आए 63 बंगाली परिवारों को कराया पुनर्वास

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर देहात में पाकिस्तान से आए 63 बंगाली परिवारों को कराया पुनर्वास

Newspoint24/ संवाददाता /एजेंसी इनपुट के साथ 

कानपुर देहात। बंगाली हिन्दुओं को कानपुर देहात में बसाने के लिए सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। लगभग 63 परिवारों को जनपद में बसाने के लिए जगह भी देख ली गई है।

रविवार को जनपद पहुंचे अपर मुख्य सचिव पंचायती राज एवं ग्राम विकास मनोज सिंह ने रसूलाबाद क्षेत्र के भैसाया गांव पहुंच कर जायजा भी लिया था। उन्होंने सभी परिवारों को हर सम्भव मदद का आश्वासन भी दिया है। जिससे वहां बसने वाले सभी परिवार खुश हैं और सरकार का धन्यवाद दे रहे हैं।

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सराहनीय सोच के चलते 1970 में पूर्वी पाकिस्तान से आए 63 हिन्दू बंगाली परिवारों को पुनर्वास करने के लिए रसूलाबाद के ग्राम भैसाया में सरकार द्वारा इन परिवारों को खेती व आवास के लिए भूमि आवंटन की कार्रवाई जोरों से शुरू कर दी गई।

शासन के निर्देश पर अपर मुख्य सचिव ग्राम विकास मनोज कुमार सिंह सहित प्रदेश के कई वरिष्ठ अधिकारियों व जनपद के जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी के साथ मौके पर आकर भूमि का स्थलीय निरीक्षण कर इन परिवारों के लिए सभी आवश्यक मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराए जाने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं।

जो परिवार रहने आने वाले हैं उन्होंने बताया कि इससे पहले वह मेरठ हस्तिनापुर में पुनर्वासित कराकर मदन सूत मिल में नौकरी कर रहे थे। लेकिन 1984 में यह मिल बंद हो जाने के कारण इन परिवारों के समक्ष भुखमरी की समस्या उत्पन्न हो गई थी।

इस समस्या के निराकरण के लिए गत बुधवार को मुख्यमंत्री अध्यक्षता में कैबिनेट की बैठक में प्रस्ताव पास कर रसूलाबाद के भैंसाया में पुनर्वास कराने का निर्णय हो गया।

तहसीलदार राजकुमार चौधरी ने बताया कि पुनर्वास विभाग के नाम उपलब्ध भूमि 121,41 हेक्टेयर भूमिप्रस्तावित पुनर्वास योजना को स्वीकृति प्रदान कर दी गयी है।

रसूलाबाद के ग्राम भैंसाया में पुनर्वासित 63 हिंदू बंगाली परिवारों को शासन द्वारा कृषि कार्य हेतु प्रति परिवार दो एकड़ भूमि आवास के लिए प्रति परिवार 200 वर्ग गज आवास निर्माण के लिए मुख्यमंत्री आवास योजना से 120,000 भूमि सुधार व सिंचाई सुविधा आवश्यकतानुसार मनरेगा के अंतर्गत क्रियान्वित किया जाएगा।

दो एकड़ एवं 200 वर्ग गज भूमि 01 रुपये पर लीज रेंट पर प्रथम 30 वर्ष के लिए पट्टे पर दी जाएगी यह पट्टा अधिकतम दो बार तीस-तीस वर्ष के लिए नवीनीकरण के साथ अधिकतम 90 वर्ष तक के लिए रिन्यू किया जाएगा।

मेरठ के हस्तिनापुर से पुनर्वास किए गए रविंद्र नाथ विश्वास व संतराम सरकार ने आज मौके पर आकर आवास की जगह देखी तो वह प्रसन्न नजर आए।

उन्होंने कहा हमारे लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री भगवान स्वरूप हैं जिन्होंने हम लोगों की कष्ट दाई समस्या को देखते हुए हम लोगों को यहां पर पुनर्वासित कराकर भूमि व आवास दिए, इसके लिए मैं प्रदेश के मुख्यमंत्री को धन्यवाद ज्ञापित करता हूं।

Share this story