भाऊराव देवरस ने समाज में आदर्श स्थापित करने के लिए लखनऊ विवि से किया बीकाम : एसके द्विवेदी

भाऊराव देवरस ने समाज में आदर्श स्थापित करने के लिए लखनऊ विवि से किया बीकाम : एसके द्विवेदी

Newspoint24/ संवाददाता /एजेंसी इनपुट के साथ 

लखनऊ । कर्म योगी भाऊराव देवरस की 105वीं जन्म जयंती के कार्यक्रम का आयोजन भाऊराव देवरस शोध पीठ लखनऊ विश्वविद्यालय द्वारा किया गया। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता एसके द्विवेदी, उपाध्यक्ष भारतीय शिक्षण मंडल एवं अध्यक्षता भाउराव देवरस शोध पीठ विभाग लखनऊ विश्वविद्यालय के निदेशक, प्रोफेसर सोमेश शुक्ला ने किया।

कार्यक्रम की शुरुआत श्रद्धेय देवरस के चित्र पर पुष्पांजलि से हुई। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता श्री द्विवेदी ने देवरस के संस्मरण का विस्तृत उदबोधन दिया।

उन्होंने कहा कि हेडगेवार ने उन्हें संघ के प्रचार प्रसार के लिए उत्तर प्रदेश भेजा लेकिन समाज में एक आदर्श स्थापित करने के लिए उन्होंने लखनऊ विश्वविद्यालय से बीकॉम तथा एलएलबी में प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण होते हुए छात्र संघ के अध्यक्ष पद को सुशोभित किया। उन्होंने विस्तार से विद्या भारती की स्थापना से अब तक के उनके कार्यों का सिंहावलोकन प्रस्तुत किया।

द्विवेदी ने कहा कि देवरस जी 'इथोस' यानी नैतिकता पर 'फोटोज' यानी जानकारी एवं 'लोगोज' यानी विधि के सिद्धांत को सामाजिक जीवन में नेतृत्व के लिए महत्वपूर्ण एवं आवश्यक बताया। इसी के साथ उन्होंने अपने संबोधन में देवरस जी के अन्य विचारों का प्रस्तुतीकरण किया।

अपने अध्यक्षीय संबोधन में प्रोफेसर शुक्ला ने अतिथियों का का धन्यवाद एवं देवरस पीठ के कार्यों का संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत किया और कहा कि यह संपूर्ण कार्य देवरस जी के शिक्षा के प्रति विचारधारा के पूर्ण आलोक में प्रतिपादित हो रहे हैं तथा भविष्य में होते रहेंगे।

प्रोफेसर सोमेश् शुक्ला ने बताया कि देवरस कहा करते थे कि शिक्षा का आधार सामान्य जन ही है, अतः हमें उनका ध्यान रखना होगा तथा समाज में ऐसे प्रतिमान लागू करने होंगे जो आने वाले शिक्षा प्रणाली पर अपना समसामयिक प्रभाव डाल सके तथा समाज को एक नई राह दिखा सकें।

Share this story