जब-जब सरकार आवाम से टकराई, तब-तब मुंह की खाई:चढ़ूनी

जब-जब सरकार आवाम से टकराई, तब-तब मुंह की खाई:चढ़ूनी

Newspoint24 / newsdesk

सिरसा । संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर सिरसा की अनाज मंडी में किसान, मजदूर,व्यापारी व कर्मचारी महासमेलन आयोजित किया गया। समेलन को संबोधित करते हुए भारतीय किसान यूनियन के प्रधान गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने कहा कि जब-जब सरकार ने आवाम से टकराने की कोशिश की है, तब-तब सरकार को मुंह की खानी पड़ी है। उन्होंने कहा कि करनाल में हुआ घटनाक्रम सरकार के मुंह पर एक तमाचा है। किसानों के कार्यक्रमों में लोगों की भीड ये दर्शाती है कि बहुत जल्द सरकार घुटने टेकने वाली है। चढूनी ने कहा कि करनाल में प्रशासन ने सरकार के इशारे पर जिस प्रकार किसानों पर बर्बरतापूर्ण लाठियां भांजी, उससे सरकार की जहां किरकिरी हुई है, वहीं लोगो में सरकार के प्रति रोष और बढ गया है। उन्होने कहा कि जितना समय सरकार तीनों काले कानूनों को रद्द करने में लगाएगी उतनी ही अधिक शक्ति के साथ किसान सरकार से टकराएगा।

उन्होने कहा कि आंदोलन की शुरूआत हो चुकी है। अब इस सरकार को आइना दिखाने में ज्यादा वक्त नही लगेगा। इस मौके पर डा. दर्शनपाल ने कहा कि पूरे भारत में आज तीनों किसान विरोधी काले कानूनों के खिलाफ किसानों का संघर्ष जारी है। किसानों ने एक के बाद एक कई मजबूत समेलनों से सरकार के लिए खतरे की घंटी बजा दी है। किसानों की जुटी भीड ने सरकार को भी सोचने के लिए मजबूर कर दिया है। तीनो काले कानूनों से किसान कारपोरेट घरानों का गुलाम हो जाएगा। उन्होने कहा कि सरकार जब तक तीनों काले कानूनो को वापस नही लेती,तब तक देश का किसान चुप नही बैठेगा। कार्यक्रम के दौरान पंजाबी कलाकारो रूपिंद्र हांडा, गायक करतार सिंह चीमा,प्रीत रंधावा ने अपने गीतो से किसानो को प्रोत्साहित किया और सरकार को चेताया।

हिन्दुस्थान समचार

Share this story