वाराणसी: इलाज में लापरवाही का आरोप लगाकर मृतक के परिजनों ने हंगामा किया

वाराणसी: इलाज में लापरवाही का आरोप लगाकर मृतक के परिजनों ने हंगामा किया

Newspoint24 / newsdesk 

जिलाधिकारी व सीएमओ को बुलाने की मांग पर अड़े रहे, पुलिस अफसरों ने समझाया
 पीड़ितों की मांग हार्ट अटैक या ऑक्सीजन से हुई मौत, सीसीटीवी फुटेज को सार्वजनिक किया जाय 

वाराणसी । कोविड काल में निजी अस्पतालों की लूट-खसोट, इलाज के नाम पर लापरवाही और अमानवीय व्यवहार की घटनाएं प्रशासन के तमाम दावों के बीच लगातार बढ़ रही है। गुरुवार को फिर ऐसा ही मामला भदवर स्थित हेरिटेज इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस हॉस्पिटल में सामने आया। अस्पताल में इलाज के दौरान कोविड मरीज की मौत के बाद आक्रोशित परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन पर गंभीर आरोप लगाकर जमकर हंगामा किया। 

 सूचना पर क्षेत्रीय पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। इस दौरान परिजन जिलाधिकारी और मुख्य चिकित्सा अधिकारी को मौके पर बुलाने के साथ सीसीटीवी फुटेज दिखाने की मांग करते रहे। उधर,अस्पताल प्रबंधन का पक्ष था कि मरीज की मौत हार्ट अटैक से हुई है।

लंका थाना क्षेत्र के नरोत्तमपुर निवासी 33 वर्षीय चन्द्र कुमार सिंह बीते 14 अप्रैल को इस अस्पताल में इलाज के लिए आये थे। जहां इलाज व जांच के बाद उनका रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव आया था। उसके बाद उन्हें वहां इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। गुरुवार को परिजनों को मरीज का कोई हाल नहीं मिला और मरीज का मोबाइल स्विच ऑफ देख परिजन बेचैन हो गये। 

 आनन-फानन में परिजन हॉस्पिटल पहुंच गये। वहां पूछताछ की तो डॉक्टर ने बताया कि चन्द्र कुमार का हार्ट अटैक के दौरान मौत हो गया है। मरीज के मौत की खबर पाते ही आक्रोशित परिजनों ने इलाज में लापरवाही का आरोप लगाकर हंगामा करना शुरू कर दिए। सूचना पर रोहनिया पुलिस मौके पर पहुंच गई और मामला शान्त कराया। 

 परिजन अमित सिंह का आरोप था कि 14 अप्रैल से लेकर आज 29 अप्रैल तक कुल 3 लाख 31 हजार रुपया अस्पताल के कैश काउंटर पर जमा कर इलाज कराया जा रहा था। उसके बाद भी अस्पताल प्रबंधन मरीज के स्वस्थ या अस्वस्थ होने या मौत की कोई जानकारी नहीं दे रहा था। हमारी मांग है कि मरीज के इलाज का सीसीटीवी फुटेज सार्वजनिक किया जाय। ताकि हम लोगों को यह पता चल सके कि आखिर मौत किस कारण हुई है। इस बारे में मोहनसराय चौकी प्रभारी ने जांच की बात कह मामला शांत कराया। 

Share this story