वाराणसी : गड़वाघाट आश्रम के संतों ने प्रधानमंत्री के संसदीय कार्यालय में दिया ज्ञापन

संतों के प्रतिनिधि मंडल में रोहनिया विधायक सुरेन्द्र सिंह भी शामिल रहे

Newspoint24.com/newsdesk/

वाराणसी । संतमत अनुयायी आश्रम मठ गड़वाघाट के संतों ने शनिवार को गुरूधाम स्थित प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय कार्यालय में कार्यालय प्रमुख को एक पत्रक दिया। पत्रक के जरिये संतों ने पाकिस्तान स्थित एक आश्रम गिराये जाने पर कड़ा आक्रोश जताया है। 

आश्रम के प्रतिनिधि  सचिव प्रकाश ध्यानानन्द ने बताया कि बीते वर्ष के 30 दिसम्बर को पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में हमारे दादा गुरूदेव परमहंस दयाल महाराज की समाधि मंदिर को वहां के उन्मादी मुस्लिमों ने षड्यंत्रपूर्वक तहस-नहस कर दिया। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहा है।  जिसे देखकर पूरे देश के हिन्दुओं और खासकर संतमत अनुयायियों में भारी रोष है। संत इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं। साथ ही वाराणसी के सांसद और देश के प्रधानमंत्री से निवेदन करते हैं कि पाकिस्तान के धर्म उन्मादी मुस्लिमों द्वारा किये गये इस घोर निष्कृष्ट कृत्य के लिये भारत सरकार पाकिस्तान सरकार के सामने कड़े शब्दों में विरोध प्रकट करे। 

उन्होंने बताया कि प्रतिनिधि मंडल ने भारत सरकार से आग्रह किया है कि तत्काल भारत में कार्य कर रहे पाकिस्तान उच्चायोग के अधिकारियों को तलब करते हुए उन्हें स्पष्ट और कड़े शब्दों में संदेश दिया जाए। साथ ही उनसे ये मांग की जाए कि करोड़ों हिन्दुओं और संतमत अनुयायियों के लिए पवित्र दादा गुरूदेव परमहंस दयाल महाराज की समाधि का जल्द से जल्द जीर्णोद्धार करें। 

प्रतिनिधि मंडल में रोहनिया विधायक सुरेन्द्र सिंह , संत धर्मदर्शनानन्द, दिव्यदर्शनानन्द, चरनध्यानानन्द, रोशन दर्शनानन्द आदि शामिल रहे। 

Share this story