वाराणसी : कोरोना वैक्सीनेशन का ड्राई रन पांच को, छह स्थानों पर मॉक ड्रिल

मॉक ड्रिल के लिए 25-25 लाभार्थियों को चिन्हित किया गया

Newspoint24.com/newsdesk/ 

वाराणसी । वाराणसी में कोविड-19 का टीका (वैक्सीन) चरणबद्ध तरीके से लोगों को लगाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने तैयारी शुरू कर दी है। 

जिले में पांच जनवरी को कोविड-19 वैक्सीनेशन का ड्राई रन चलेगा। इसकी तैयारियों को लेकर रविवार को दुर्गाकुंड स्थित मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय सभागार में  बैठक भी हुई। बैठक के बाद प्रभारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. एके मौर्य ने बताया कि पांच जनवरी को जनपद के छह स्थानों (साइट्स) को चिन्हित कर लिया गया है। जहां पर कोविड-19 वैक्सीन का ड्राई रन यानि माक ड्रिल सुबह 10 बजे से किया जाएगा। उन्होंने बताया कि छह स्थानों में से तीन स्थान ग्रामीण और तीन शहरी क्षेत्र के सुनिश्चित किए गए हैं। 

ग्रामीण क्षेत्र के लिए सेवापुरी ब्लॉक के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) हाथी, काशी विद्यापीठ ब्लॉक के सीएचसी मिसिरपुर और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) पिंडरा को चुना गया है। वहीं, शहरी क्षेत्र के लिए जिला महिला चिकित्सालय कबीरचौरा, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शिवपुर और निजी क्षेत्र के हेरिटेज हॉस्पिटल को चिन्हित किया गया है। 

प्रभारी सीएमओ ​के अनुसार सभी स्थानों के लिए पाँच-पाँच कर्मचारियों की टीम तैयार कर ली गयी है। इसके साथ ही प्रत्येक साइट के सुपरविजन के लिए एक-एक अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी व उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी को तैनात करना सुनिश्चित कर लिया गया है । इसमें स्वयं डॉ. एके मौर्य सीएचसी हाथी, एसीएमओ डॉ. राजेश प्रसाद सीएचसी मिसिरपुर, एसीएमओ डॉ. एके गुप्ता पीएचसी पिंडरा, एसीएमओ डॉ एनपी सिंह हेरिटेज हॉस्पिटल, डिप्टी सीएमओ डॉ सुरेश सिंह सीएचसी शिवपुर और डिप्टी सीएमओ डॉ पुनीत कुमार जिला महिला चिकित्सालय पर साइट का सुपरविजन करेंगे।  

   
क्या है ड्राई रन की प्रक्रिया


जिला प्रतिरक्षण अधिकारी एवं अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. वीएस राय ने बताया कि ड्राई रन का मतलब वैक्सीनेशन प्रक्रिया का मॉक ड्रिल होना है। यानि ड्राई रन में सब कुछ वैसा ही होगा जैसे वैक्सीनेशन अभियान में असल में होने वाला है। इसमें सिर्फ कोविड-19 का वैक्सीन नहीं लगाया जाएगा। ड्राई रन के लिए हर साइट पर दो-दो सेशन आयोजित किए जाएंगे। प्रत्येक सेशन के लिए तीन कमरे होंगे जिसमें पहला कमरा प्रतीक्षा कक्ष, दूसरा कमरा टीकाकरण कक्ष और तीसरा कमरा निगरानी कक्ष (टीकाकरण के बाद 30 मिनट तक डॉक्टर की निगरानी में) तैयार किए गए हैं।  

उन्होंने बताया कि मॉक ड्रिल के लिए 25-25 लाभार्थियों को चिन्हित किया गया है । ड्राई रन में सबसे पहले डमी वैक्सीन कोल्ड स्टोरेज से निकालकर वैक्सीनेशन सेंटर तक कैसे पहुंचेगी, टीकाकरण स्थल पर सोशल डिस्टेन्सिंग, मास्क, सेनिटाइजर आदि का ध्यान रखा जाएगा, वैक्सीन की रियल टाइम मॉनिटरिंग भी की जाएगी। टीकाकरण टीम समय से 45 मिनट पहले ही साइट पर पहुँच जाएगी। डमी वैक्सीन, सीरिंज, एईएफआई किट और अन्य लॉजिस्टिक्स समय पर सेशन में पहुँचना सुनिश्चित किया जाएगा । टीकाकरण की विपरीत परिस्थितियों और प्रभाव के लिए एडवर्स इवेंट फॉलोइंग इम्यूनाईजेशन (एईएफ़आई) प्रबंधन के लिए उचित व्यवस्था की गयी है।  

बैठक में ये रहे शामिल


कोविड-19 वैक्सीनेशन के ड्राई रन को लेकर हुई बैठक में एसीएमओ डॉ. एके गुप्ता, डॉ. राजेश प्रसाद, डॉ. एनपी सिंह, डिप्टी सीएमओ डॉ. सुरेश सिंह, डॉ पुनीत कुमार, चिकित्सा अधिकारी डॉ. एके पांडे, सीएमएस डॉ. अजय कुमार सिंह, हेरिटेज हॉस्पिटल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. डीएन सिंह, संबन्धित ब्लॉकों के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी, डबल्यूएचओ व यूएनडीपी के जिला प्रतिनिधि आदि शामिल रहे।

Share this story