वाराणसी: हनुमान प्रसाद पोद्दार अन्ध विद्यालय बंद होने से नाराज छात्रों ने किया प्रदर्शन

वाराणसी: हनुमान प्रसाद पोद्दार अन्ध विद्यालय बंद होने से नाराज छात्रों ने किया प्रदर्शन

Newspoint 24 / newsdesk

वाराणसी । दुर्गाकुंड स्थित श्री हनुमान प्रसाद पोद्दार अन्ध विद्यालय को बंद किये जाने से यहां पढ़ने वाले दृष्टिबाधित छात्रों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। शुक्रवार अपरान्ह अस्सीघाट पर जुटे दृष्टिबाधित छात्रों ने विकलांग अधिकार छात्र समिति के बैनरतले जमकर प्रदर्शन किया।

छात्रों के समर्थन में बीएचयू के विभिन्न छात्र संगठनों से जुड़े कार्यकर्ता भी प्रदर्शन में शामिल हुए। प्रदर्शन में शामिल अभय शर्मा ने कहा कि शिक्षा हमारा मूल अधिकार है। एक नागरिक के तौर पर शिक्षा ग्रहण करना सबका अधिकार है। लेकिन सरकार हम दृष्टिबाधित विकलांगों से यह अधिकार छीन रही। अभय ने कहा कि 21वीं सदी में विश्व जहां विकलांगजनों को अपना जीवन स्वाभिमान और वैज्ञानिक दृष्टिकोण से जीने के लिए प्रेरित कर रहा है। वहीं हमारे देश में सरकार और सामाजिक संस्थाएं विकलांगों के मूल अधिकार दबा कर हमारे भविष्य के साथ मजाक कर रही है। दुर्गाकुंड के अन्ध विद्यालय का बंद होना शर्मनाक है।

अन्य छात्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी विदेश जाते हैं और वहां की ढेर सारी चीजें देखकर आते हैं। प्रधानमंत्री विदेशों में अन्ध विद्यालय और दृष्टिबाधित छात्रों की व्यवस्था भी देखते होंगे। तो उनके मन में ऐसी व्यवस्था भारत में लागू करने का विचार अब तक क्यों नही आया? विद्यालय के पूर्व छात्र शशिभूषण पांडेय ने कहा कि गुरूवार को प्रधानमंत्री वाराणसी दौरे पर थे। कुल 1500 करोड़ के परियोजनाओं का उद्घाटन किया। लेकिन यहीं बनारस में एकमात्र अन्ध विद्यालय को सरकार ने फण्ड नहीं दिया, जिसके कारण ये विद्यालय बंद हो रहा है। विद्यालय का मात्र 60 लाख रुपये प्रति वर्ष का बजट है। इस अन्ध विद्यालय को हनुमान प्रसाद पोद्दार सेवा समिति ट्रस्ट इसको संचालित करती है जिसके सर्वेसर्वा बनारस के प्रसिद्ध पूंजीपति किशन जालान हैं।

उन्होंने कहा हम दृष्टिबाधित विकलांग चाहते हैं कि यह अन्ध विद्यालय बचाने की लड़ाई व शिक्षा के अधिकार की लड़ाई को न सिर्फ विकलांगता से जोड़कर लड़ा जाए। बल्कि समाज में दबे कुचले सारे लोगों की लड़ाई से जोड़कर देखा जाए। हम बनारस के लोगों से अपील करते हैं कि यह अन्ध विद्यालय बिना बनारस के लोगों के नहीं बचाया जा सकता। प्रदर्शन में अनिरुद्ध, दिनेश यादव, जोगिंदर , रामकुमार, अनिल प्रजापति, सुनील यादव, राहुल साहनी, राहुल, परांनन्द द्विवेदी, कुंदन कुमार, राकेश यादव आदि शामिल रहे।
 

Share this story