टीका पूरी तरह से सुरक्षित:डॉ. माधवेश्वर झा

newspoint24.com/newsdesk

छपरा । वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के नियंत्रण के लिए टीकाकरण का कार्य किया जाना है। तैयारियां भी लगभग पूरी कर ली गयी है। टीका के लगाने से पूर्व फैली भ्रांतियों पर सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा ने बताया टीका पूरी तरह से सुरक्षित है। इसके बाद भी टीकाकरण केंद्र में किसी को कोई समस्या होती है तो इलाज के लिए डॉक्टरों की टीम तुरंत पहुंचेगी। 

सिविल सार्जन डॉ. मधवेश्वर झा ने कहा कि हर पांच बूथ को मिलाकर एक सेक्टर बनाया जाएगा। हर सेक्टर के लिए एक सेक्टर मेडिकल ऑफिसर तैनात किया जाएगा। वह अन्य स्वास्थ्यकर्मियों के साथ हर बूथ पर बारी-बारी से जाकर टीका लगवाने वाले लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण करेंगे। हर बूथ के कर्मचारियों को कहा गया है कि वह सेक्टर मेडिकल ऑफिसर का नंबर मोबाइल पर फास्ट डायलिंग मोड पर पहले नंबर पर रखें।

टीका लगवाने के बाद भी मास्क पहनना जरूरी: 
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी गाइडलाइन में कहा गया है कि टीका लगवाने के बाद भी मास्क पहनना जरूरी होगा। इसके अलावा सैनिटाइजर का प्रयोग और 6 फुट की दूरी का पालन जीवन का हिस्सा बना रहेगा। 
60 से 95 प्रतिशत असरदार है तो टीका है कारगर: 
स्वास्थ्य मंत्रालय ने टीका लगने के गंभीर दुष्प्रभाव हैं जिस से बचना मुश्किल है? इस सवाल का जवाब देते हुए कहा है कि हर टीके का कुछ दुष्प्रभाव होता है। इसका मतलब है कि सही पर टीके का असर हो रहा है। आमतौर परजहां इंजेक्शन लगा है वहां दर्द महसूस हो सकता है। हल्का बुखार या थकान हो सकती है। कोई अन्य लक्षण है तो उसका उपचार संभव है। कोई भी टीका 100 प्रतिशत प्रभावी नहीं होता है। परीक्षण में 60 से 95 प्रतिशत असरदार है तो भी वह कारगर है। कोरोना के जिन टीमों को अनुमति मिली है, उसके परीक्षण में सिर्फ 15 प्रतिशत लोगों को हल्की तकलीफ देखने को मिली है।  

Share this story