यूपी : प्राकृतिक आक्सीजन को ग्रहण करने का अनूठा साधन है योग

यूपी : प्राकृतिक आक्सीजन को ग्रहण करने का अनूठा साधन है योग

newspoint24

सहारनपुर। आक्सीजन की कमी से सांस लेने में हो रही समस्या को कुछ हद तक योग की मदद से दूर किया जा सकता है। इसके लिये भस्त्रिका, अनुलोम विलोम,भ्रामरी और प्राणायाम उपयोगी साबित हो सकते हैं। योग गुरू गुलशन कुमार ने रविवार को कहा कि कोरोना संक्रमण काल में लोग बुखार, गले में खराश और खांसी से खासे भयभीत है। उधर आक्सीजन की कमी से संबधित हर एक सूचना लोगों के बीच अनजाना भय पैदा कर रही है। लोगों को पता होना चाहिये कि डर शरीर की प्रतिरोधक क्षमता पर प्रतिकूल असर डालता है। अगर किसी का आक्सीजन लेबल कम हो रहा है तो ऐसे व्यक्ति को चेस्ट के नीचे तकिया लगाकर एक तकिया जांघो के नीचे लगाकर उलटा पेट के बल लिटा देना चाहिये और उसे गहरी सांस लेते और छोडनी चाहिये। इससे आक्सीजन की कमी में सुधार होगा। यह एक प्राकृतिक वेटीलेटर है। उन्होने कहा कि मौसम में बदलाव के कारण हमारे शरीर की प्रकृति संचित हुए मल को निष्कासित करती है परिणाम स्वरूप बुखार, खांसी, बलगम, दस्त, डायरिया, कफ, एसिडिटी आदि लक्षण दिखाई देते है। टेलीविजन पर महामारी की खबरे अखबारों में नकारात्मक खबरे यह सब व्यक्ति के अन्दर डर व भय पैदा करती है जिसके कारण हमारी शारीरिक गतिविधियां कमजोर व स्लो हो जाती है। हमारे लंग्स की कार्यक्षमता प्रभावित होने लगती है और हमारे आक्सीजन के स्तर में भी कमी आने लगती है ।
योग गुरू ने कहा कि इस माह गेहूँ की कटाई का काम चल रहा है गेहूँ की कटाई के कण वायु मण्डल मे फैल कर वायू मण्डल को प्रदूषित करते है जिसके कारण सूखी खांसी अधिकांश लोगों को होती है इसी को एलर्जिक खांसी कहते है। ऐसी स्थिति में हमारी प्रतिरक्षण प्रणाली भी कमजोर पड जाती हैं तब हमारी बीमारी तीव्र हो जाती है। प्रतिदिन कोरोना काल के दौरान हो रही मृत्यु के भय के कारण भी घबराये हुए पारिवारिक लोग रोगी को अनावश्यक हास्पिटल में भर्ती करते है जहाँ कि व्यवस्थाएँ पहले से चरमरायी हुई है।

आक्सीजन का अभाव है,मेडिकल सुविधाएँ पूरी है नही, वहाँ पर मरीज दम तोड रहे है। यदि होम आइसोलेशन में लोग है वहा पर परिवार के लोगों द्वारा देखभाल सुहानभूति सकारात्मक रवैया आपको जल्दी स्वस्थ करता है। उन्होने कहा कि आक्सीजन कम होने लगे तो भस्त्रिका,अनुलोम विलोम और भ्रामरी प्राणायाम करे। भस्त्रिका प्राणायाम - सुखासन या पद्मासन या कुर्सी पर पीठ सीधी करके बैठे । तत्पश्चात कोहनी मोडकर रखते हुए दोनों हाथो को मुट्ठी बन्द करके कन्धो पर लाए फिर दोनो हाथ सिर के ऊपर करके मध्यम वेग से सांस भरे फिर तेजी से नीचे हाथ लाते हुए छक की आवाज के साथ सांस बाहर छोडे ।यह अभ्यास लगभग बीस बार करे। फिर थोडा विश्राम करे। फिर पुनः दोहराये ऐसा तीन बार बीस बीस बार करे।

अनुलोम विलोम प्राणायाम - सर्वप्रथम बायें नासिका से लम्बी गहरी सांस भरे और दायें नासिका छिद्र से निकाल दे फिर दाये नासिका छिद्र से लम्बी गहरी सांस भरे फिर बाये नासिका से सांस छोड देनी है ।इस क्रम को 20-20 बार दोनों नासिका से बारी बारी करे। भ्रामरी प्राणायाम - दोनो हाथो अगुंठो से कर्ण छिद्रों को बन्द करे नासिका से श्वास का पुरक करे रेचन करते हुए कंठ से भौरे की ध्वनि करते हुए धीरे धीरे श्वास को छोड़ दे।

 

Share this story