यूपी: टी. बी. हारेगा-प्रदेश जीतेगा : राज्यपाल

Newspoint24.com/newsdesk

झासी। उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने 2 जनवरी से 12 जनवरी 2021 तक चलने वाले सक्रिय क्षय रोग खोज अभियान का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से डिजिटली शुभारंभ किया। राज्यपाल ने कहा कि क्षय रोग एक गंभीर बीमारी है, यह हम सभी के लिए चुनौती बनी हुई है। इसे हटाने के लिए हमें सुनियोजित तरीके से कार्य योजना बनानी होगी। हर हाल में टीबी हारेगा और प्रदेश जीतेगा। राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा कि इस कार्य से ग्राम प्रधानों को जोड़ा जाए। ग्राम प्रधानों को जिम्मेदारी देने के साथ मेरा गांव स्वच्छ गांव, मेरा गांव स्वस्थ गांव तथा मेरा गांव समृद्ध गांव की भावना के लिए प्रेरित करें। उन्होंने अभियान में महिलाओं को भी विशेष रूप से जोड़ने के निर्देश दिए। कहा कि उनकी प्रेरणा एवं प्रोत्साहन से इस अभियान को गति तथा नई दिशा मिलेगी।   उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास होना चाहिए कि किसान, गरीब, महिलाएं एवं बच्चे सभी इस अभियान से जुड़े। उन्होंने अधिकारियों को 2025 तक टीबी मुक्त प्रदेश बनाने के लिए हर स्तर पर कड़ी मेहनत करने के निर्देश दिए। उन्होंने 18 वर्ष से कम उम्र के उपचाराधीन बच्चों को गोद लेने की अपील करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय प्रदेश के पांच-पांच गांवों को गोद लें और इस अभियान को सफल बनाएं।

सक्रिय रोगी खोज अभियान दिनांक 2 जनवरी 2021 से 12 जनवरी 2021 तक चलने वाले कार्यक्रम में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिलाधिकारी आंद्रा वामसी ने बताया कि अभियान में जनपद की लगभग 20 प्रतिशत लक्षित आबादी(452625) का चयन करते हुए माइक्रोप्लान बना लिया गया है। उन्होंने बताया कि 3750 की आबादी पर एक टीम कार्य करेगी। टीम में 3 सदस्य रहेंगे जो घर-घर टीबी रोगियों को तलाशेगें। जनपद में कुल 120 टीमों का गठन किया गया है,शहरी क्षेत्र में 50 टीम तथा ग्रामीण क्षेत्र में 70 टीम कार्य करेंगी। टीम के सुपरविजन हेतु 24 सुपरवाइजर पर्यवेक्षण कार्य करेंगे। उन्होंने बताया कि प्रत्येक टीम प्रतिदिन 75 घरों का भ्रमण करेगी और यह काम 10 दिन में पूर्ण किया जाएगा। जिलाधिकारी ने बताया कि  घरों में भ्रमण के दौरान यदि किसी व्यक्ति का जांच में क्षय रोग निकलता है तो उसे उपचार पर रखा जाएगा, इसका इलाज 6 से 8 महीने चलेगा जो पूर्णतः निशुल्क होगा। उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि प्रत्येक सदस्य को प्रतिदिन 150 रुपए मानदेय दिया जाएगा तथा और खोजे गए प्रति रोगी को उपचार पर रखने के उपरांत प्रति सदस्य 200 रुपए अलग से दिया जाएगा। उन्होंने सुपरवाइजर को 300 रुपए प्रतिदिन भुगतान करने की भी जानकारी दी। जिलाधिकारी ने बताया कि जिस क्षेत्र में टीम कार्य करेगी वहां पर प्रचार हेतु व्यापक बैनर व पोस्टर के माध्यम से अभियान की जानकारी लोगों तक पहुंचाई जाएगी।

ये रहे उपस्थित

इस मौके पर एनआईसी कक्ष में नगर आयुक्त व सीडीओ अवनीश कुमार राय, एडी हेल्थ श्रीमती अल्पना बरतारिया, जेडी हेल्थ डॉक्टर रेखा रानी, सीएमओ डा. गजेंद्र कुमार निगम,डॉ राजकिशोर, डीटीओ डॉ ललित मोहन नरवरिया, रुपेश कुमार नामदेव डीपीसी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

Share this story