यूपी :  सचिव माध्यमिक शिक्षा आदेश का पालन करे या अवमानना आरोप के लिए रहे तैयार

Newspoint24.com/newsdesk
प्रयागराज। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सचिव माध्यमिक शिक्षा आराधना शुक्ला को 20 जनवरी 21 तक आदेश का पालन करने या अवमानना आरोप के लिए तैयार रहने का निर्देश दिया है। यह आदेश न्यायमूर्ति सुनीत कुमार ने अध्यापक कमलेश प्रसाद तिवारी की अवमानना याचिका पर दिया है। याची का कहना है कि वह अध्यापक है। सेवानिवृत्ति के करीब है और उनके बकाया वेतन के भुगतान के आदेश की खंडपीठ से पुष्टि के बावजूद पालन नहीं किया जा रहा है। न ही वेतन का आंकलन किया गया  है और न ही बकाया वेतन के भुगतान की मंशा है।

सरकार की तरफ से कहा गया कि खंडपीठ के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है, इसलिए सुनवाई टाली जाय। कोर्ट ने इस दलील को यह कहते हुए अस्वीकार कर दिया और कहा कि एसएलपी दाखिल होने मात्र से आदेश पर रोक नहीं लग जाती। कोर्ट ने आदेश की अवहेलना करने पर विपक्षियों को तलब किया था। तीन अधिकारी पेश हुए, सचिव ने पेशी से छूट मांगी। आदेश का पालन नहीं किया गया। कोर्ट ने अधिकारियों की हाजिरी माफ करते हुए आदेश का अनुपालन कर हलफनामा दाखिल करने का समय दिया है और कहा कि यदि पालन नहीं किया तो कोर्ट सचिव के खिलाफ अवमानना आरोप निर्मित करेगी। सुनवाई 20 जनवरी को होगी।

Share this story