यूपी: कोटेदारों के पास मुफ्त राशन लेने के साथ जमा होगा बिजली का बिल  

Newspoint24.com/newsdesk

अमेठी । अक्सर करके ग्रामीण और शहरी इलाकों में पावर हाउस के दूर होने के चलते कंज्यूमर के हजारों और लाखों रूपए बिजली के बिल बकाया रह जाते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा की पहल पर अब शहरी और ग्रामीण आंचल में राशन कोटेदारों के यहां से ही उपभोक्ता मुफ्त में राशन भी लेगा और बिजली के बिल का भुगतान भी वहीं पर कर देगा। अमेठी में बाकायदा कोटेदारों को बिजली विभाग के इंजीनियर द्वारा इसकी ट्रेनिंग भी दे दी गई है। बैंक से लिंक होगा। कोटेदार का एकाउंट अमेठी ब्लॉक में आज कोटेदारों की ट्रेनिंग हुई। कोटेदार मोहम्मद इम्तियाज अहमद ने बताया कि गरीब जनता जो परेशान होती है, लाइन नही लगानी पड़ेगी।

मुफ्त राशन लेगी और एक तरफ अपना बिजली का बिल जमा कर देगी। आराम से वो अपना बिल जमा करके अपने घर चली जाएगी परेशानियां कुछ नही होंगी। जैसे राशन में परेशानियां नही हो रही मशीन से। जेई और कर्मचारियों ने अच्छे से समझाया है के हम लोग उससे सहमत हैं। वहीं बिजली विभाग के इंजीनियर परमेश त्रिपाठी ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि यूपीपीसीएल ने फैसला लिया है कि ई पाश मशीनों और एप्स द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में जो बिल बकाया है उसे जमा कराया जा सके। इसमें आनलाइन और आफलाइन सिस्टम दोनो है। कोटेदार के एकाउंट को बैंक से लिंक कर दिया जा रहा है। इनके एकाउंट से पेमेंट कट जाएगा और जो इनका बिल होगा वो इनको पेमेंट कर दिया जाएगा।

कोटेदारों को हर बिल पर दिया जाएगा मिनिमम कमीशन इस पूरे मामले में अमेठी एसडीओ ने बताया कि ऊर्जा मंत्री के निर्देश पर हमें ग्रामीण इलाकों और शहरी इलाकों में कोटेदारों से मिनिमम 25 प्रतिशत बिजली के बिल जनवरी माह में जमा कराने हैं। अभी तक क्या होता आया है कि ग्रामीण इलाकों में और दूर दराज इलाकों में बिजली विभाग में उतने लोग शिक्षित नही थे। उनको शिक्षित करके के बिजली का बिल बराबर जमा करें इसके उद्देशय से हम लोग कोटेदारों के साथ आज मीटिंग रखखे थे। पहले से कुछ कोटेदार बिजली का बिल जमा करते आ रहे हैं, लेकिन आज हम और कोटेदारों को भी शिक्षित कर रहे हैं कि वो भी बिजली का बिल जमा कर सकें। 

उन्होंने ये भी बताया कि इसके लिए ई पाश मशीन जिससे कोटेदार राशन बांटते हैं। उसी से अब बिजली का बिल भी जमा कर सकते हैं। कोटेदारों को हर बिल पर कमीशन भी दिया जा रहा है। मिनिमम 17 रूपए एक बिल पर दिया जा रहा। दो हजार से ज्यादा बिल रहेगा तो कोटेदार को एक पर्सेंट का कमीशन भी दिया जा रहा है। इससे विभाग का बिल भी ज्यादा से ज्यादा जमा होगा। टारगेट है की आने वाले दो महीने में 50 पर्सेंट बिल जमा होंगे।

Share this story