यूपी: स्मृति के दौरे से पहले अमेठी कांग्रेस के जिला सचिव का इस्तीफा

Newspoint24.com/newsdesk

अमेठी । उत्तर प्रदेश में अमेठी जैसा अपना अभेद दुर्ग खो चुकी कांग्रेस अब अपने वर्कर्स को भी संजो नहीं पा रही है। पार्टी ने जिला सचिव ने पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कहा है कि "हम कांग्रेसी हैं और रहेंगे, मुझे किसी लोलुपता की आवश्यकता नहीं। लक्ष्य है गांधी परिवार को वापस लाना, इसके लिए जो सही रास्ता होगा उस पर मैं चलूंगा, किसी के सहयोग की आवश्यकता नही।" लेकिन आज केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के एक दिवसीय दौरे से कुछ घंटे पहले अमेठी कांग्रेस के जिला सचिव का इस्तीफा बड़े सवाल खड़ा कर गया है। 2014 के लोकसभा के बाद ज्वाइन की थी कांग्रेस जानकारी के अनुसार सुलतानपुर जिले के हलियापुर कोतवाली क्षेत्र के कस्बा निवासी धनंजय सिंह एमबीए डिग्री होल्डर हैं। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद जब बीजेपी ने कश्मीर में पीडीपी से पैक कर सरकार बनाई तो उन्होंने पार्टी से इस्तीफा देकर कांग्रेस का हाथ थाम लिया। काफी एक्टिव भूमिका में दिखने वाले धनंजय को कांग्रेस ने पहले अमेठी जिले में समन्वय समिति का सदस्य मनोनीत किया। 2019 का लोकसभा चुनाव आया तो पार्टी ने उन्हें सुलतानपुर के बल्दीराय ब्लाक का अध्यक्ष बनाया और हाल ही में उन्हें अमेठी जिले का सचिव बनाया गया था। 

बता दें कि हलियापुर एरीये के कई गांव सुलतानपुर जिले में हैं लेकिन वोटिंग अमेठी लोकसभा सीट के लिए करते हैं। 2014 के बाद कश्मीर में पीडीपी के साथ सरकार बनाने पर छोड़ी थी भाजपा उल्लेखनीय है कि, गुरुवार को केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी अमेठी के एक दिवसीय दौरे पर हैं। वो रायबरेली जिले के परसदेपुर और सुलतानपुर जिले के हलियापुर का दौरा करेंगी। उससे ठीक पहले अमेठी कांग्रेस के जिला सचिव धनंजय सिंह का सोशल मीडिया पर इस्तीफा आ गया। पूछने पर धनंजय सिंह ने बताया कि, मैं पूर्व में भाजपा में था, लेकिन भाजपा ने 2014 के बाद जब कश्मीर में पीडीपी के साथ सरकार बनाई तो हमें भाजपा की नीति सही नहीं लगी। उसकी नीति केवल काला झंडा दिखाना है।

उन्होंने कहा कि बल्दीराय के 29 गांव में कांग्रेस अपना संगठन खड़ा करे, और मैं अपना संगठन खड़ा करूंगा देखते हैं कौन बेहतर है? आज ही मैं अपने जिला सचिव पद से त्यागपत्र देता हूं, क्योंकि जब से कांग्रेस में 29 गांव शामिल हुए हैं, तब सारे बूथ जीतने के बाद से लगातार रसातल में हम जा रहे थे। पहली बार बल्दीराय ब्लॉक पॉजिटिव ग्रोथ में आया और विधानसभा की तुलना में 1 प्रतिशत वोट भाजपा का कम हुआ, बढ़े वोट भी अपने खाते में आये। सनद रहे कि धनंजय सिंह वही नेता हैं कि दिसंबर 2020 के अंत में जब स्मृति ईरानी अमेठी आई थीं और हलियापुर जा रही थीं तो धनंजय और उनके साथियों को हलियापुर पुलिस ने हिरासत में लिया था।

जिलाध्यक्ष बोले, नहीं मिला इस्तीफा

अमेठी कांग्रेस के अध्यक्ष प्रदीप सिंघल से फोन पर बात की गई तो उन्होंने कहा कि आप लोगों को हुआ क्या है? मेरे संज्ञान में ऐसा कोई मामला नहीं, उन्होंने आकर मुझे कोई इस्तीफा नहीं सौंपा है। बुधवार को पार्टी की मीटिंग भी थी लेकिन वो आए नहीं थे। 

Share this story