उप्र : बीते चौबीस घंटे में 971 नए केस आये सामने, 14,260 सक्रिय मामले


 

Newspoint24.com/newsdesk

लखनऊ। प्रदेश में पिछले चौबीस घंटे में संक्रमण के 971 नए मामले सामने आए हैं। सक्रिय मामलों की कुल संख्या 14,260 है। वहीं अब कोरोना की रिकवरी दर 96.13 प्रतिशत हो गई है। अपर मुख्य सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने गुरुवार को बताया कि संक्रमित होने के बाद ठीक हुए लोगों की संख्या बढ़कर 5,63,278 हो गई है। वहीं अब तक संक्रमण से 8,364 लोगों की मौत हुई है। उन्होंने बताया कि कल प्रदेश में 1,49,823 कोरोना नमूनों की जांच की गई। अब तक कुल मिलाकर 2,39,43,169 सैम्पल की जांच की जा चुकी है। उन्होंने बताया कि कुल सक्रिय मामलों में से 6,337 लोग होम आइसोलेशन में हैं। वहीं निजी चिकित्सालयों में 1,275 लोग इलाज करा रहे हैं। इसके अतिरिक्त शेष मरीज एल-1, एल-2 तथा एल-3 के सरकारी अस्पतालों में भर्ती हैं।

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य ने बताया कि सर्विलांस का कार्य जारी है। प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 1,79,772 क्षेत्रों में 4,99,780 टीम दिवस के माध्यम से 3,09,74,970 घरों के 15,06,86,305 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है। वहीं चिकित्सकीय उपचार के लिए ई-संजीवनी पोर्टल शुरू किया गया है। ई-संजीवनी के माध्यम से कल एक दिन में 4,410 लोगों ने चिकित्सकीय परामर्श लिया। इस प्रकार अब तक कुल 3,32,130 लोगों ने चिकित्सकीय परामर्श लिया।

अपर मुख्य सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य ने बताया कि 'मेरा कोविड केन्द्र ऐप' के माध्यम से उपयोगकर्ता द्वारा पांच किलोमीटर के दायरे में स्थित कोविड-19 जांच केन्द्र की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। उन्होंने बताया कि वैक्सीन के संबंध में सभी तैयारियां की जा रही है, जिसमें कोल्ड चेन के उपकरणों की व्यवस्था करने के साथ-साथ, स्टाफ को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। कोविड वैक्सीन के भण्डारण के साथ-साथ वैक्सीन लक्षित समूहों को चरणबद्ध तरीके से लगाने की व्यवस्था की जायेगी है।  उन्होंने बताया कि 09 दिसम्बर के बाद से यूनाइटेड किंगडम से आने वाले लोगों का कोविड-19 टेस्ट कराया जा रहा है। अब तक 2,500 से अधिक सैम्पल लेकर टेस्ट किया जा चुका है। केवल दो लोगों में नया स्ट्रेन देखने को मिला है। एक मेरठ में और एक गौतमबुद्ध नगर में, दोनों मामले लक्षणविहीन हैं।

उन्होंने बताया कि कोविड के नये संक्रमण से लोगों को डरने व घबराने की आवश्यकता नहीं है इससे बचाव के भी वही तरीके है जो अब तक अपनाये जा रहे है। जब तक वैक्सीन नहीं आती तब तक कोविड प्रोटोकाॅल का पालन करते हुए पहले से बीमार बुजुर्गों, बच्चों, गर्भवती महिलाओं को संक्रमण से बचाना होगा।  

Share this story