सर्वसम्मति से कृष्णा पटेल को हमारे साथ आने के लिए अंतिम प्रस्ताव भेजा : आशीष सिंह पटेल

सर्वसम्मति से कृष्णा पटेल को हमारे साथ आने के लिए अंतिम प्रस्ताव भेजा : आशीष सिंह पटेल

newspoint 24 / newsdesk / एजेंसी इनपुट के साथ 


वाराणसी। अपना दल (एस) ने अपना दल (कमेरावादी) की अध्यक्ष कृष्णा पटेल को साथ आने के लिए प्रस्ताव भेजा है। इस पर अपना दल (एस) के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और एमएलसी आशीष सिंह पटेल ने रविवार को वाराणसी में कहा कि हमने सर्वसम्मति से कृष्णा पटेल को हमारे साथ आने के लिए अंतिम प्रस्ताव भेजा है।

सोनेलाल पटेल द्वारा स्थापित की गई अपना दल आपसी मनमुटाव के कारण टूट गई। एक समय ऐसा हुआ कि पार्टी के दो भाग हो गए। कृष्णा पटेल और उनकी बेटी अनुप्रिया पटेल दोनों अलग हों गई। ऐसे में कृष्णा पटेल के दामाद पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और एमएलसी आशीष सिंह पटेल ने दोनों को साथ लाने की पहल की है। रविवार को वाराणसी में अपना दल के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और एमएलसी आशीष सिंह पटेल ने कहा कि हमने सर्वसम्मति से कृष्णा पटेल को प्रस्ताव भेजा है कि वह हमारे साथ आएं।


इसमें उनकी छोटी बेटी और कुछ करीबी रिश्तेदार अहम भूमिका निभा रहे हैं। अपना दल (एस) की राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल की मां कृष्णा पटेल अगर साथ आईं तो प्रदेश सरकार में मंत्री पद में जगह दी जाएगी। आशीष सिंह पटेल ने कहा कि अगर उन्हें एमएलसी का पद भी चाहिए तो वह खुद उनके लिए इस्तीफा देने को तैयार हैं। उन्होंने कहा कि वह कोई लालच नहीं दे रहे हैं। यह उनके लिए अच्छा अवसर है।


हमें उम्मीद है कि माताजी अपनी बेटी की भावनाओं को समझेंगी। साथ ही उन्होंने कहा कि इस प्रस्ताव के बाद उनसे कोई राजनीतिक बात नहीं होगी।

 फिलहाल पार्टी में पल्लवी पटेल को शामिल न करने का निर्णय

आशीष सिंह पटेल ने कहा कि फिलहाल पार्टी में पल्लवी पटेल को शामिल न करने का निर्णय लिया गया है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पल्लवी ने पहले ऐसी 2 घटनाएं की हैं, जिस वजह से राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल उन्हें साथ लाने में हिचक रही हैं। एक यह कि उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष पर गबन का फर्जी मुकदमा दर्ज कराया था। दूसरी बात यह है कि पल्लवी ने एक वसीयत करा ली थी और उसमें अपनी सबसे छोटी बहन को भी हिस्सा नहीं दिया था। पल्लवी पटेल राष्ट्रीय अध्यक्ष से सार्वजनिक रूप से माफी मांग लें और आगे से ऐसी कोई धोखाधड़ी न करने के लिए आश्वस्त करें। तब साथ आने पर विचार किया जाएगा।
 

Share this story