लखनऊ मुठभेड़ में अन्तर्राष्ट्रीय बंग्लादेशी डकैत गिरोह के तीन सदस्य गिरफ्तार

लखनऊ मुठभेड़ में अन्तर्राष्ट्रीय बंग्लादेशी डकैत गिरोह के तीन सदस्य गिरफ्तार

Newspoint24 / newsdesk /एजेंसी इनपुट के साथ 


लखनऊ। उत्तर प्रदेश की लखनऊ पुलिस ने सोमवार को चिनहट क्षेत्र में मुठभेड़ के दौरान अन्तर्राष्ट्रीय बंग्लादेशी डकैत गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया,जिसमें दो बदमाश घायल हो गये।

पुलिस प्रवक्ता ने यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आज सुबह पुलिस गश्त कर रही थी। उसी बीच विकल्प खंड इलाके में रेल पटरी के निकट झाड़ियों में आहट दिखाई दी। संदिग्ध झाड़ियों से निकलकर मल्हौर रेलवे की ओर भाग गये। इस बीच गोमतीनगर पुलिस आठ अक्टूबर को हुई घटना के सिलसिले में इलाके में कांम्बिग कर रही थी। सूचना पर पुलिस ने बदमाशों मल्हौर गांव के पास रेल पटरी पर घेर लिया।

खुद को घिरा देख उन्होंने फायरिंग शुरु कर दी। पुलिस ने भी अपना बचाव करते हुए फायरिंग की जिसमें गिरोह के दो सदस्य शेख रुबेल उर्फ रबीउल और आलम उफ अल अमीन घायल हो गये। पुलिस ने घायलों के अलावा उनके साथी रबीउल को भी गिरफ्तार कर लिया।
उन्होंने बताया कि गिरफ्तार गिरोह के सदस्यों के कब्जे एवं निशादेही पर एक पिस्टल,तमंचा, धारदार हथियार, डकैती में लूटे गये जेवरात और हजारों की नकदी व बंग्लादेशी मुद्रा के अलावा जेवरात बरामद किए। उनके कब्जे से डकैती डालने के समय घर में घुसने के लिए खिड़की की ग्रिल आदि उखाड़ने के काम आने वाले लोहे की रॉड, पेचकस और अन्य सामान बरामद किया। घायल बदमाशों को अस्पताल भेज दिया।


प्रवक्ता ने बताया कि इस गिरोह के आठ बदमाश फरार हो गये,जिनमें हमजा,असलम,नासिर उर्फ नसीर,शाहीन, बिल्लाल, नूर आलम और नूर खान शामिल हैं। उन्होंने बताया कि वांछित गिरोह सदस्याों की गिरफ्तारी पर पुलिस उपायुक्त पूर्वी ने 25000 हजार रुपये का इनाम घोषित करने के साथ इनाम राशि बढ़ाने के लिए लिखा है। उन्होंने बताया कि बंग्लादेशी डकैत गिरफ्तार करने वाले पुलिस दल को संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) ने बतौर इनाम 25000 रुपये देने की घोषणा की है। गिरफ्तार और फरार बदमाश सभी बंग्लादेश के विभिन्न जिलों के रहने वाले हैं।


उन्होंने बताया कि गिरोह के सदस्य रेल पटरी के निकट बने घरो को अपना निशाना बनाते हैं। घटना के पहले कूड़ा आदि बिनने के बहाने घर की रैकी करते हैं और खाली प्लाट व पार्क में छूपकर घर आने-जाने वालों पर नजर रखते हैं। ये लोग मध्यरात्रि के बाद घर में खिड़की की ग्रिल आदि उखाड़ कर प्रवेश करते हैं। परिजनों को बंधक बनाकर कमरे में बंद कर बाहर से कुंडी लगा देते हैं । गिरोह के सदस्य कई बार महिलाओं एवं लडकियों से बलात्कार भी करते हैं। विरोध करने पर मारपीट कर घायल करने से भी नहीं चुकते। इस गिरोह ने वाराणसी,लखनऊ के अलावा अन्य स्थानों पर घटनाओं को अंजाम दिया है। दिल्ली आनंद विहार रेल लाइन के निकट डकैती के दौरान गिरोह के सदस्यों ने रॉड मारकर एक महिला को घायल कर दिया था,जिसकी बाद में मृत्यु हो गई थी।


प्रवक्ता ने बताया कि डकैत गिरोह रेल पटरी के किनारे अपना ठिकाना बनाते हैं और घटना के बाद एक व्यक्ति ट्रेन में बैठकर बंग्लादेश लूटे गये सामान को लेकर चला जाता है। गिरोह के सदस्य अपना ठिकाना भी बदलते रहे हैं। यह गिरोह उत्तर प्रदेश के अलावा मध्य प्रदेश, केरल, दिल्ली,बिहार आदि राज्यों में घटनाएं कर चुका है। पुलिस गिरोह के फरार बदमाशों की तलाश कर रही है। ये लोग अवैध रुप से बंग्लादेश से भारत में नदी पार कर प्रवेश करते हैं। यहां आकर नकदी आधार कार्ड आदि बनवा लेते हैं।

Share this story