यौन शोषण मामले में बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी गिरफ्तार

यौन शोषण मामले में बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी गिरफ्तार

newspoint 24 / newsdesk / एजेंसी इनपुट के साथ 

रांची। पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। तिवारी पर दुष्कर्म और यौन शोषण का आरोप है। पुलिस की विशेष टीम ने कार्रवाई करते हुए सुनील तिवारी को उत्तरप्रदेश के इटावा से गिरफ्तार किया है।

उल्लेखनीय है कि झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी के राजनीतिक सलाहकार सुनील तिवारी पर एक युवती ने दुष्कर्म का आरोप लगाया था। खूंटी की रहने वाली युवती ने अशोक नगर निवासी सुनील तिवारी के खिलाफ अरगोड़ा थाने में बीते 16 अगस्त को प्राथमिकी दर्ज करायी थी। युवती द्वारा पुलिस को दिये गये आवेदन में कहा गया था कि सुनील तिवारी के यहां वो घर का काम करती थी। शुरुआती दिनों से ही सुनील तिवारी की बुरी नीयत का अंदाजा उसे उनके हावभाव से होने लगा था।

एक दिन घर के अन्य सदस्यों की गैर मौजूदगी में सुनील तिवारी ने उसके संवेदनशील अंगों को छूना शुरू किया, जिसका उसने विरोध किया। आरोप के मुताबिक विरोध करने पर शराब के नशे में सुनील तिवारी ने उसके साथ मारपीट की और उसके दुष्कर्म किया। दुष्कर्म करने के बाद सुनील तिवारी ने मोबाइल पर फोन कर मुझसे माफी मांगी। दूसरे दिन उन्होंने मुझे पैसे का लालच देकर कहा कि मैं उस घटना का जिक्र किसी से न करूं।

ऐसा करने पर वो मुझे मुंह मांगा पैसा देंगे। उस घटना के बाद सुनील तिवारी ने दोबारा मेरे साथ छेड़छाड़ की। इसके बाद जुलाई महीने में मैंने उनका घर छोड़ दिया। इसके बाद भी उन्होंने मेरा पीछा नहीं छोड़ा और मुझे फोन कर परेशान करते रहे। जब मैंने छेड़खानी का विरोध किया तो जाति सूचक शब्दों का इस्तेमाल करते हुए गंदी-गंदी गालियां दी। मुझे जान से मारने की धमकी भी दी। युवती के आवेदन पर अरगोड़ा थाना में कांड संख्या 229/ 2021 दर्ज किया जा चुका है।

इसमें आईपीसी की धारा 376(1), 354 ए ,354 बी ,354 डी ,504 ,504 और एससी एसटी एक्ट की धारा लगायी गयी थी। प्राथमिकी दर्ज होने के बाद पीड़िता का 164 का बयान भी दर्ज हो चुका है। मामले में सिविल कोर्ट से सुनील तिवारी के खिलाफ वारंट भी जारी हुआ था। उन्होंने सिविल कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका भी दायर की थी। जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया था। इसके बाद तिवारी ने हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका की गुहार लगाई थी।

Share this story