राजस्थान :अलवर में भगवान जगन्नाथ की महाआरती से हुआ तीन दिवसीय मत्स्य उत्सव का आगाज, होंगे अनेक कार्यक्रम

Rajasthan: Three-day fish festival started with the Maha Aarti of Lord Jagannath in Alwar, there will be many programs

Newspoint24/ संवाददाता 

अलवर । अलवर जिला कलक्टर नन्नूमल पहाड़िया एवं एडीएम द्वितीय वंदना खोरवाल ने भगवान जगन्नाथ मंदिर में पूजा-अर्चना कर तीन दिवसीय मत्स्य उत्सव के कार्यक्रमों की विधिवत शुरुआत की। यह कार्यक्रम पर्यटन विभाग व जिला प्रशासन द्वारा संयुक्त रूप से किया जा रहा है। मत्स्य उत्सव 2021 के 24 से 26 नवम्बर तक आयोजित होगा। पहले दिन 24 नवम्बर को विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं प्रतियोगिताएं आयोजित होंगी।

जिला कलक्टर ने बताया कि मत्स्य उत्सव 2021 के पहले दिन सुभाष चौक स्थित जगन्नाथ मंदिर में महा आरती से मत्स्य उत्सव का शुभारम्भ हुआ। इसके बाद फतेहगंज गुम्बद पर मेहन्दी, रंगोली व पेंटिंग प्रतियोगिता आयोजित हुई। जिसमें बड़ी संख्या में स्कूली बच्चों ने भाग लिया। देर शाम महल चौक में कवि सम्मेलन आयोजन होगा। इसमें जबलपुर से सुदीप भोला, इंदौर से हास्य कवि अतुल ज्वाला, इटावा से कमलेश सिंह, अलवर से बलबीर सिंह करूण, नीमच से कवियित्री प्रेरणा ठाकरे द्वारा काव्य पाठ किया जायेगा।जिसमे जिलेभर से आमजन शामिल होंगे।

एडीएम ने बताया कि नगर विकास न्यास द्वारा मत्स्य उत्सव के दौरान सिटी पैलेस, मूसी महारानी की छतरी, सागर, फतेहजंग गुम्बद, पैनोरमा स्थलऔर प्रमुख चौराहों पर रोशनी व्यवस्था की गई है। कार्यक्रम में आगन्तुओं को मास्क लगाकर ही प्रवेश दिया जायेगा और कोरोना गाइडलाइन की पालना करना आवश्यक होगा।

25 नवम्बर को यह कार्यक्रम होंगे आयोजित

मत्स्य उत्सव के दूसरे दिन 25 नवम्बर को प्रात: 7 बजे नेहरू गार्डन सेल्फी पॉइन्ट से महल चौक तक साइकिल रैली का आयोजन होगा। जिसमें अलवर पैडल्स सहित शहर के विभिन्न साइकिलिंग क्लब शामिल रहेंगे। इसके बाद प्रात: 9 बजे इंदिरा गांधी स्टेडियम में सेंड आर्ट पैरासेलिंग, परम्परागत खेल, कैमल डांस आदि का आयोजन किया जाएगा। इसी दिन दोपहर 2:30 बजे से मूसीरानी की छतरी पर लोक कलाकारों का कला प्रदर्शन, जादूगर प्रदर्शन, दोपहर 3 बजे से सागर में पैडल बोट का आयोजन किया जाएगा। सागर में सांय 5 बजे से दीपदान और महल चौक में लोक कलाकारों द्वारा सांय 7 बजे से सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया जाएगा।

Share this story