आशीष के ऊपर कार्रवाई होने तक लखीमपुर हिंसा के दिवंगत पत्रकार रमन कश्यप के घर में भूख हड़ताल बैठे नवजोत सिंह सिद्दू

आशीष के ऊपर कार्रवाई होने तक लखीमपुर हिंसा के दिवंगत पत्रकार रमन कश्यप के घर में भूख हड़ताल बैठे नवजोत सिंह सिद्दू

Newspoint24 / newsdesk /एजेंसी इनपुट के साथ 

सहारनपुर। कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्दू ने लखीमपुर हिंसा के दिवंगत पत्रकार रमन कश्यप के घर में भूख हड़ताल शूरू कर दी है  ,उन्होंने कि जब तक अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष के ऊपर कार्रवाई नहीं होती, वो जांच में शामिल नहीं होते, मैं यहां भूख हड़ताल पर बैठूंगा।

इसके पहले लखीमपुर में मृतक किसानो के परिजनों के आंसू पोछने भारी भरकम काफिले के साथ जाने की जिद पर अड़े पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को आखिरकार 20 नेताओं के साथ जाने की इजाजत दी गयी।

अधिकृत सूत्रों ने बताया कि सहारनपुर पुलिस ने गुरूवार रात करीब नौ बजे पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू, पार्टी महासचिव सरदार प्रगट सिंह, कांग्रेस प्रवक्ता भूपेंद्र सिंह, परिवहन मंत्री राजा अमरिंदर सिंह वडिंग,फतेह सिंह बाजवा,विधायक बलविंदर सिंह धारीवाल, संतोष सिंह, मंत्री गुरमीत सिंह एंव तपेनदर सिंह बाजवा समेत करीब 20 प्रमुख कांग्रेस नेता को हिरासत से मुक्त कर दिया।

श्री सिद्धू के साथ पंजाब के कई विधायक, कांग्रेस कार्यकर्ताओ के करीब 250 वाहनों के साथ आ रहे थे। उन्हें सरसावा इलाके में राज्य की सीमा पर शाहजहांपुर पुलिस चौकी के पास रोकने के लिए पुलिस प्रशासन ने बेरिकेटिंग कर रखी थी। काफिले को रोकने पर आक्रेशित कांग्रेस कार्यकर्ता बेरिकेटिंग पर चढ़ गए, कुछ बेरिकेटिंग को जोर-जबरदस्ती से हटा दिया।

डा. प्रीतिन्द्र सिंह ने बताया कि सहारनपुर रेंज के शामली में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी भूपेंद्र सिंह हुड्डा, पूर्व केंद्रीय मंत्री शैलजा चौधरी 40 वाहनों के काफिलें के साथ हरियाणा से शामली जिले में प्रवेश कर गए। जहां पुलिस ने उनको लखीमपुर जाने से रोक दिया। उन्होंने बताया कि पुलिस अधिकारियों ने पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डा से आग्रह किया था कि पांच लोगों के साथ वे लखीमपुर खीरी जा सकते हैं ,लेकिन हुड्डा नहीं माने और अपने काफिलें साथ लखीमपुर खीरी जाने की जिद्द पर अड़े रहे। लंबी जद्दोजेहद के बाद पुलिस प्रशासन ने हुड्डा के काफिले को हरियाणा वापस लौटा दिया।

Share this story