सड़क मार्ग से यूपी लाया जायेगा मुख्तार जिम्मेदारी एनकाउंटर स्पेशलिस्ट एडीजी प्रेम प्रकाश के हवाले 

Newspoint24.com/newsdesk

  1. सड़क मार्ग से लाया जायेगा मुख्तार 
  2. तेज तर्रार आईपीएस अफसरों में गिने जाते हैं एडीजी प्रेम प्रकाश 


लखनऊ । माफिया मुख्तार अंसारी को पंजाब जेल से उत्तर प्रदेश में लाने का काउंटडाउन शुरू हो गया है। अपर पुलिस महानिदेशक प्रयागराज व एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रेम प्रकाश को उसे सुरक्षित लाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। एडीजी के साथ पुलिस की विशेष टीम रहेगी। यह टीम सोमवार को रवाना होगी और देर रात तक उसे यूपी लाया जायेगा। 

चित्रकूट धाम के पुलिस महानिरीक्षक के सत्यनारायण ने रविवार को बताया कि पंजाब जेल में बंद मुख्तार अंसारी को लाने के लिए पुलिस की विशेष टीम भेजी जायेगी। मुख्तार को कड़ी सुरक्षा के बीच यूपी में लाया जायेगा और बांदा की जेल में शिफ्ट किया जायेगा। 

आईजी ने बताया कि मुख्तार को बांदा जेल की कौन बैरक में रखा जायेगा। सुरक्षा में कितने पुलिसकर्मियों को तैनात किया जायेगा, इसको लेकर अधिकारियों के साथ बैठक कर पूरी रूपरेखा तैयार कर ली गई है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि जेल के भीतर के साथ ही बाहर भी सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद की जायेगी। दो शिफ्टों में दो दारोगा और पुलिस टीम को लगाया जायेगा। कहा कि जेल के अंदर अभी तक कितने बंदी हैं, उनकी सूची और जेल में आने वाले बंदियों की सूची प्रतिदिन बनाई जायेगी और अधिकारी इसकी मॉनीटिरिंग करेंगे। 

बाहर से आने वालों पर रखी जायेगी नजर

आईजी ने कहा कि चित्रकूट, बांदा और हमीरपुर के पुलिस कप्तानों को सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं। सभी होटल, धर्मशाला, लॉज में चेकिंग की जाएंगे। बाहर से आने वाले सभी व्यक्तियों के बारे में जांच की जाएगी। किरायेदारों का भी पुलिस वैरिफिकेशन कराया जाएगा।

मुख्तार का नया ठिकाना बैरक नम्बर 15 या 16 

पुलिस विभाग के मुताबिक, जेल के मुख्य प्रवेश द्वार पर ही दो सुरक्षा चौकियां बनाई जा रही हैं। इन चौकियों में 24 घंटे पुलिसकर्मी तैनात रहेंगे, जो अनुमति मिलने पर तलाशी के बाद ही किसी को अंदर जाने देंगे। मुख्य द्वार हमेशा बंद रहेगा। यहां पर नए एंट्री गेट से ही आवाजाही होगी।

सूत्रों के मुताबिक, मुख्तार का नया ठिकाना बैरक नंबर 15 या 16 होगी। यहां अतिरिक्त सुरक्षाकर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है। बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के आने के बाद बांदा का मंडल कारागार किसी सुरक्षित दुर्ग से कम नहीं होगा। 

27 महीने बाद यूपी आयेगा मुख्तार अंसारी 

मुख्तार अंसारी को 08 अप्रैल से पहले यूपी लाया जायेगा। इसको लेकर पुलिस विभाग की ओर से सारी तैयारियों को लगभग अंतिम रूप दिया जा चुका है। सोमवार को जो विशेष टीम यूपी से पंजाब के लिए रवाना होगी, उसमें न सिर्फ यूपी पुलिस के जवान रहेंगे, बल्कि खास कमांडो को भी शामिल किया गया है। तकरीबन 27 माह बाद मुख्तार अंसारी को यूपी लाया जा रहा है। 
  
उल्लेखनीय है कि सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद बाहुबली नेता मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश लाने की तैयारी चल रही है। पंजाब सरकार का पत्र अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी को मिला है। पत्र में मुख्तार अंसारी को 08 अप्रैल से पहले उत्तर प्रदेश सरकार को हैंडओवर करने का जिक्र है। लेकिन मुख्तार अंसारी को 08 अप्रैल से पहले किसी भी दिन बांदा जेल लाया जा सकता है।

मोहाली कोर्ट में पेशी के दौरान खेला था नया पैंतरा 

मुख्तार अंसारी जनवरी, 2019 से कथित उगाही के मामले में पंजाब की जेल में बंद है। बीते दिनों मोहाली कोर्ट में पेशी के लिए वह 'व्हील चेयर' पर आया था। बेसूध था। उसका यह पैंतरा था कि उसे पंजाब सरकार उसकी हालत को देखकर यूपी न भेजे। लेकिन सर्वोच्च न्यायायल के आदेश के बाद पंजाब के गृह विभाग ने उत्तर प्रदेश सरकार से कहा है कि वह मुख्तार अंसारी की हिरासत 08 अप्रैल तक जेल से ले लें। 

08 बार खाली लौटी यूपी पुलिस

मुख्तार अंसारी को लाने के लिए यूपी पुलिस करीब आठ बार पंजाब गई है। लेकिन वहां की सरकार द्वारा हर बार कोई न कोई बहाना बनाकर पुलिस को खाली हाथ लौटा दिया जाता था। इसको लेकर कई बार यूपी के मंत्रियों ने पंजाब सरकार पर संरक्षण देने का आरोप लगाया। 02 फरवरी, 2021 को गाजीपुर से भाजपा विधायक अलका राय ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को चिट्ठी लिखकर कहा कि आपने और आपकी सरकार ने मेरे पति के हत्यारे मुख्तार और उसके बेटे को राज्य अतिथि के रूप में शरण दी है। अलका राय ने प्रियंका से पूछा कि आपकी सरकार द्वारा हत्यारे को क्यों बचाया जा रहा है?अलका कई बार मुख्तार को लेकर प्रियंका गांधी को चिट्ठी लिख चुकी हैं। वह बीजेपी विधायक रहे कृष्णानंद राय की पत्नी हैं। 

आफशां अंसारी ने राष्ट्रपति को लिखा था पत्र 

मुख्तार अंसारी की पत्नी आफशां अंसारी ने बीते बुधवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द को पत्र लिखा था। इसमें उन्होंने अपने पति को पंजाब से उत्तर प्रदेश लाने के दौरान उनकी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम सुनिश्चित करने का आदेश देने की गुहार लगाई है। आगे लिखते हुए कहा कि उनके पति एक मामले में चश्मदीद गवाह हैं। जिसमें भाजपा के विधान परिषद सदस्य माफिया बृजेश सिंह और त्रिभुवन सिंह अभियुक्त हैं। यह दोनों अभियुक्त सरकारी तंत्र की कथित मिलीभगत से अंसारी को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। लिहाजा इस बात का खतरा महसूस हो रहा है कि पंजाब की जेल से बांदा लाए जाते वक्त रास्ते में फर्जी मुठभेड़ की आड़ में अंसारी की हत्या की जा सकती है। 

 एनकाउंटर स्पेशलिस्ट हैं एडीजी प्रेम प्रकाश 

मुख्तार को पंजाब से यूपी लाने के लिए एडीजी प्रेमप्रकाश को जिम्मेदारी सौंपी गई है। दिल्ली के रहने वाले 1993 बैच के आईपीएस प्रेम प्रकाश तेज तर्रार आईपीएस अफसरों में गिने जाते हैं। वे एनकाउंटर के स्पेशलिष्ट रह चुके हैं। कानपुर में एडीजी रहते हुए यहां पर उन्होंने पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक कर अपराधियों के खिलाफ अभियान शुरू किया। इस दौरान 67 को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। कुछ अपराधियों ने तो सरेंडर करके खुद जेल चले गये। कानपुर कचहरी में अधिवक्ताओं को पीटने के मामले भी सुर्खियों में आये थे। उनके कड़े तेवर को देखते हुए बदमाश ही नहीं लापरवाह पुलिस कर्मी भी थर्राते थे। बगैर किसी दबाव के निर्णय और काम को अंजाम देने की धाक रही है। वह कई जिलों में पुलिस कप्तान भी रहे हैं। 

Share this story