रिश्ता नाता नहीं फिर भी मिशन जागृति करती है अंतिम संस्कार

रिश्ता नाता नहीं फिर भी मिशन जागृति करती है अंतिम संस्कार

Newspoint24.com/newsdesk

फरीदाबाद । मुश्किल घड़ी में मिशन जागृति लगातार मानवता की मिसाल पेश कर रही है। इसी कड़ी में मंगलवार को फरीदाबाद के सरकारी अस्पताल से दो शवों का अंतिम संस्कार किया गया।

 मिशन जागृति के जिला अध्यक्ष विवेक गौतम ने कहा कि उनके पास सेक्टर- 11 से एक साथी पंकज और सूचित का फोन आया कि दो लावारिस शव बीके अस्पताल में पड़े है, जिस पर वह तुरंत बीके हॉस्पिटल पहुंच गए और वहां पर पुलिस के साथ मिलकर दोनों का अंतिम संस्कार जनता कॉलोनी स्थित श्मशान घाट में किया। 

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के चलते मौत के बाद कोई परिजन सामने नहीं आ रहे हैं, जिस पर सामाजिक संस्थाओं की और जिम्मेदारी बढ़ जाती है। इस पुनीत कार्य में मिशन जागृति के विपिन भारद्वाज, गुरनाम सिंह, राजेश भूटिया, संजय पाल, दिनेश राघव, विकास कश्यप का पूरा सहयोग रहता है। विवेक गौतम ने कहा कि सभी स्वयंसेवक पूरी सुरक्षा के साथ प्रशासन के मापदंडों के अनुसार ही शरीर का अंतिम संस्कार करते हैं।

 गौतम ने कहा कि बहुत सारे पार्थिव शरीर ऐसे होते हैं जिनका कोई नहीं है या जिनके परिजनों ने अंतिम विदाई देने से भी इंकार कर दिया है। मिशन जागृति ऐसे लावारिस शवों का सम्मानजनक तरीके से अंतिम संस्कार कर रही है ताकि उनकी आत्मा को शांति मिल सके। 
 

Share this story