लखनऊ : वृक्षारोपण के लिए किसान को अनुदान व्यवस्था : दारा सिंह

up news

newspoint24

लखनऊ उत्तर प्रदेश वन विभाग द्वारा सब मिशन ऑन एग्रोफॉरेस्ट्री योजना के तहत किसानों को अपनी निजी भूमि पर पौधशाला स्थापना एवं वृक्षारोपण के लिए अनुदान दिया जा रहा है। यह जानकारी पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री दारा सिंह चौहान ने गुरुवार को यहां दी। उन्होंने बताया कि किसान के अपने खेत की मेड़ पर वृक्षारोपण करने पर 150 पौध प्रति हेक्टेयर रोपण पर 35 रुपये प्रति पौध का अनुदान देने की व्यवस्था है। यह अनुदान चार किश्तों में दिया जायेगा, जिसमें प्रथम वर्ष की किस्त 14 रुपये प्रति पौध एवं द्वितीय, तृतीय व चतुर्थ वर्ष में प्रत्येक वर्ष 07 रुपये प्रति पौध का अनुदान दिया जायेगा।
 

उन्होंने बताया कि इसी प्रकार फसल के साथ ब्लॉक वृक्षारोपण करने पर 500 पौध प्रति हेक्टेयर रोपण पर अनुदान राशि दी जा रही है। यह अनुदान राशि 28 रुपये प्रति पौध के हिसाब से चार किस्तों में दी जायेगी, जिसमें प्रथम वर्ष में 11.20 रुपये प्रति पौध तथा अन्य आगामी तीन वर्षों में 5.60/ रुपये प्रति पौध दिये जाने का प्राविधान है।
श्री चौहान ने बताया कि सब मिशन ऑन एग्रोफॉरेस्ट्री योजना के अन्तर्गत वर्ष 2018-2019 से 2020-2021 तक 98 बड़ी, छोटी, हाईटेक, कृषक पौधशालाएँ स्थापित की गयी है तथा कृषकों के खेतों की मेड़ों व सीमा पर 18.31 लाख पौधे एवं कृषकों के खेतों में फसलों के साथ 8.77 लाख पौधे रोपित किये जा चुके हैं।

यह योजना प्रदेश के 36 जिलो बरेली, शाहजहाँपुर, झॉंसी, चित्रकूट, महोबा, कानपुर नगर, फर्रूखाबाद, सीतापुर, दक्षिण खीरी, बाराबंकी, बहराइच, फिरोजाबाद, बुलन्दशहर, बिजनौर, काशी वन्य जीव प्रभाग चन्दौली, फतेहपुर, सिद्धार्थनगर, आजमगढ़, कुशीनगर, मऊ, मैनपुरी, हाथरस, बदायूँ, मुजफ्फरनगर, बलिया, संत कबीर नगर, प्रयागराज, वाराणसी, गाजीपुर, भदोही, गोरखपुर, देवरिया, रायबरेली, प्रतापगढ़, मीरजापुर एवं कानपुर देहात में संचालित है। उन्होंने बताया कि योजना के तहत रोपित की जाने वाली प्रजातियों में इमली, यूकेलिप्टस, शहतूत, शीशम, बांस, सागौन, जामुन, नीम, बालम खीरा, गोल्ड मोहर, कंजी, आंवला, आम, अर्जुन, अमरूद इत्यादि प्रजातियां प्रमुख रूप से शामिल हैं।

Share this story