पहले चरण में 20 हजार स्वास्थ्य कर्मियों का होगा कोविड टीकाकरण : मंडलायुक्त

Newspoint24.com/newsdesk

कानपुर। वैश्विक महामारी कोरोना की रोकथाम के लिए सरकार ने दो प्रकार की वैक्सीन के टीकाकरण की अनुमति दे दी है। दोनों वैक्सीन कानपुर नगर में भी आ चुकी हैं और मंगलवार का इसका ड्राई रन ट्रायल भी शुरु हो गया। कानपुर में निशा नाम की महिला पर पहला ट्रायल किया गया। इसके बाद जनपद के 67 केन्द्रों में स्वास्थ्य विभाग की 100 टीमें अभियान में जुट गयी। पहले चरण के तहत 20 हजार स्वास्थ्य ​कर्मियों का कोविड टीकाकरण किया जाएगा। यह बातें मंगलवार को कोविड वैक्सीन टीकाकरण अभियान के निरीक्षण के दौरान मंडलायुक्त डा. राजशेखर ने कही। 

कोरोना की रोकथाम के लिए सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को मंजूरी मिल चुकी है। कोरोना जैसी माहामारी से निपटने के लिए देश में ड्राई रन की शुरुवात कर दी गयी है। इसमें सरकार की तरफ से वैक्सीन यानी कोरोना टीकाकरण कराया जाना सुनिश्चित किया गया है, जिसके चलते कोरोना माहामारी का दंश झेल चुके कानपुर को भी इस ड्राई रन के पहले चरण में लिया गया है। मंगलवार को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र ग्वालटोली में निशा नाम की महिला को पहली वैक्सीन लगायी गयी। मंडलायुक्त डा. राजशेखर ने कोविड वैक्सीन टीकाकरण अभियान की तैयारियों को लेकर जीएसवीएम मेडिकल कालेज परिसर का निरीक्षण किया। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार के निर्देशों के अनुसार टीकाकरण के पहले चरण में डॉक्टरों, नर्सों और पैरामेडिकल सहित सभी स्वास्थ्य कर्मचारियों का टीकाकरण किया जाएगा। इसके लिए कानपुर में करीब 20 हजार स्वास्थ्य कर्मियों को चिन्हित किया गया है। लगभग 18500 का डाटा फीडिंग पूरा हो चुका है, बाकी को अगले दो दिनों में पूरा कर लिया जाएगा। टीकाकरण के पहले चरण के लिए, मेडिकल कॉलेज (10 टीम), सभी जिला अस्पताल, सभी सीएचसी, पीएचसी, कुछ निजी अस्पताल और नर्सिंग होम सहित 100 टीमों की पहचान की गई है। प्रत्येक टीम पर सफलतापूर्वक टीकाकरण करने के लिए पांच सदस्य चिकित्सा दल होगा। इसलिए कुल 500 सदस्यों की मेडिकल टीम को टीकाकरण के पहले चरण के लिए तैयार किया गया है और उनकी ट्रेनिंग भी पूर्ण कर लिया गया है। प्रत्येक टीम प्रथम चरण के लिए प्रति दिन 100 व्यक्तियों का टीकाकरण करेगी।

दूसरे और तीसरे चरण में इनको लगेगा टीका

मंडलायुक्त ने बताया कि दूसरे चरण में कोरोना काल में रहे सभी फ्रंटलाइन कार्यकर्ता जैसे पुलिस बल, प्रशासन कर्मचारी और अधिकारी और अन्य जो प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से COVID को संभालने से संबंधित हैं, का टीकाकरण किया जाएगा। कानपुर के लिए अब तक पहचानी गई संख्या लगभग 50 हजार है। इन सभी का आवश्यक विवरण संकलित किया जा रहा है। तीसरे चरण में 50 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों को टीका लगाया जाएगा। इसके लिए कानपुर में पहचान संख्या पांच लाख के आसपास है। तीसरे चरण के लिए लगभग 250 टीकाकरण स्थलों / केंद्रों की पहचान की गई है। 

Share this story