झारखंड :  बेतहाशा वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस का झारखंड में सांकेतिक रूप से विरोध प्रदर्शन

JHARKHAND NEWS

newspoint24

रांची। पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की कीमत में बेतहाशा वृद्धि के खिलाफ झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डॉ0 रामेश्वर उरांव के नेतृत्व में शुक्रवार को राज्यभर के पेट्रोल पंप के समक्ष पार्टी कार्यकर्त्ताओं ने सांकेतिक रूप से विरोध प्रदर्शन किया । राजधानी रांची के बरियातु स्थित पेट्रोल पंप पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ0 उरांव खुद कोरोना गाइडलाइन को लेकर सरकार से जारी दिशा-निर्देश का पालन करते हुए करीब दो घंटे तक आयोजित सांकेतिक विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए। इस मौके पर पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रदीप तुलस्यान,पूर्व विधायक गीताश्री उरांव, प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, लाल किशोरनाथ,डा राजेश गुप्ता छोटू, राजेश सिन्हा सन्नी और वरिष्ठ नेता मदन मोहन शर्मा,एनएसयूआई के नेशनल कोर्डिनेटर शारीक अहमद,जयन्त जयपाल सिंह मुण्डा समेत अन्य नेता मौजूद थे।
इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ0 उरांव ने चेतावनी देते हुए कहा कि पेट्रोल-डीजल की कीमत में बढ़ोत्तरी से अन्य सभी आवश्यक वस्तुओं की कीमत में भी वृद्धि होती है और यदि इस पर शीघ्र अंकुश नहीं लगाया गया, तो पूरे देश में अराजकता की स्थिति उत्पन्न हो सकती हैं। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि सात साल पहले 2014 में जब अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल की कीमत 145 प्रति डॉलर थी, उस वक्त देश में पेट्रोल-डीजल की कीमत 70 रुपये से नीचे थे, लेकिन आज जब क्रूड ऑयल की कीमत 73 रुपये है, तो पेट्रोल की कीमत 100 रुपये के करीब पहुंच गयी है, यही भाजपा नेतृत्व वाली केंद्र सरकार के सात वर्षां के कार्यकाल में विकास का नमूना है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गरीबों के विकास की बात पूरी तरह से बेकार साबित हुई है। यह सरकार सिर्फ मुनाफाखोरी और व्यापारियों को मदद पहुंचाने का काम कर रही है, लोग यह कहते है कि आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सबसे अच्छे दोस्त अडाणी है और वह दिन दूर नहीं है, जब वे दुनिया के सबसे अमीर लोगों की सूची में अग्रणी होंगे। उन्होंने कहा कि वे कांग्रेस के एक सिपाही के हैसियत से यहां खड़े हैं, पार्टी का यह अतीत रहा है, जनसमस्याओं के निदान को लेकर कांग्रेस अपने स्थापना काल से ही संघर्षरत है। बढ़ती महंगाई के कारण आज जब पानी सिर से ऊपर गुजरने लगा, तो पार्टी के तमाम नेता-कार्यकर्त्ता कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए देशभर के पेट्रोल पंप के समक्ष सांकेतिक रूप से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। भाजपा नेताओं को यह मालूम नहीं है कि लोग किन कठिनाईयों से गुजर रहे है, पेट्रोलियम पदार्थां की कीमत बढ़ने से ट्रांसपोटेशन चार्ज बढ़ जाता है और हर चीज महंगी हो जाती है। दुनिया में कोई ऐसा देश नहीं होगा, जिसने विकास का यह मॉडल अपनाया होगा। डॉ उराँव ने कहा इतना ही नहीं संघीय ढांचे में केंद्र सरकार वैक्सीनेशन का खर्च वहन करती रही है आज पहली बार राज्यों को वैक्सीन खरीदना पड़ रहा है, लोगों के दबाव में वापस लेना पड़ा किंतु गलत परंपरा की शुरुआत प्रधानमंत्री जी ने की।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने कहा कि देश सिर्फ कोरोना ही नहीं, बल्कि भाजपा निर्मित आपदा ‘‘महंगाई’’ का भी सामना कर रहा है। कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच भाजपा ने पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाकर ‘‘लूट’’ को अवसर बनाकर भुनाया है। उन्होंने कहा कि महाबारी के बाद से ही भारत में पेट्रोल-डीजल की अभूतपूर्व बढ़ोत्तरी हुई हैं। इन 13 महीनों में पेट्रोल की कीमत में 26.70 रुपये और डीजल की कीमत में 25.02 रुपये की बढ़ोत्तरी हुई है।

Share this story