निर्दलीय विधायकों ने बैठक में किसानों का किया समर्थन, सीएम से मुलाकात के बाद साधी चुप्पी : सोमवीर सांगवान

newspoint24.com/newsdesk

चंडीगढ़। सरकार से समर्थन वापस ले चुके दादरी से निर्दलीय विधायक सोमवीर सांगवान ने कहा कि निर्दलीय विधायकों ने पंचकूला में हुई बैठक में किसानों का समर्थन करने की बात कही है। मगर मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद वे चुप्पी साध गए। उन्होंने जोर देकर कहा कि पूंडरी से निर्दलीय विधायक रणधीर गोलन अभी भी किसानों के समर्थन की बात कह रहे हैं, लेकिन खुलकर समर्थन नहीं कर रहे हैं। सांगवान का कहना था कि पंचकूला में निर्दलीय विधायकों की बैठक हुई, जिसमें वे और जजपा विधायक जोगीराम सिहाग मौजूद रहे। बैठक में किसानों के मुद्दे पर वार्ता हुई और चारों निर्दलीय विधायकों ने किसान के साथ खड़े होने की बात कही, लेकिन उन्होंने यह भी बात कही कि वे पहले एक बार मुख्यमंत्री से मुलाकात करेंगे। निर्दलीय विधायकों ने उन्हें भी मुख्यमंत्री से मुलाकात करने निमंत्रण दिया था, जिसे उन्होंने ठुकरा दिया था। सीएम से मुलाकात के बाद चारों निर्दलीय विधायक चुप्पी साध गए। 
दादरी विधायक शनिवार को चंडीगढ़ प्रेस क्लब में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। सांगवान ने स्पष्ट किया कि पशुधन विकास बोर्ड का चेयरमैन पद छोड़ना व सरकार से समर्थन वापस लेना खापों का दबाव नहीं था, बल्कि उनका व्यक्तिगत फैसला था। वे खुद किसान हैं और किसानों के हित की लड़ाई लड़ने से पीछे नहीं हटेंगे। प्रदेश की तमाम खाप पंचायतें किसानों के साथ खड़ी हैं। उन्होंने तीनों कृषि कानूनों को निरस्त कर किसानों के हित में चौथा कानून बनाने की पैरवी की है।
उन्होंने कहा कि तीनों कृषि कानून किसान के हित में नहीं हैं, बल्कि किसान विरोधी होने के साथ-साथ अलोकतांत्रिक हैं। इन्हें जल्द ही सरकार को निरस्त करना चाहिए। इन कृषि कानूनों से किसानों को नहीं बल्कि पूंजीपतियों को फायदा पहुंचेगा। 
सरकार की ओर से छेड़े गए एसवाईएल के पानी के मुद्दे पर सांगवान का कहना था कि किसान आंदोलन को कमजोर करने के साथ हरियाणा व पंजाब किसानों के भाईचारे को तोड़ने का प्रयास किया गया। पानी देने का फैसला ट्रिब्यूनल करता है। सुप्रीम कोर्ट की ओर से नहर निर्माण करने के आदेश दिए गए हैं, लेकिन इस दिशा में अभी तक सरकार ने कोई कदम नहीं बढ़ाया है। इससे स्पष्ट है कि सरकार एसवाईएल के पानी के मुद्दे पर केवल आपसी भाईचारे को तोड़ने का प्रयास कर रही है। 

Share this story