विंध्य पर्वत के प्राकृतिक सौंदर्य की अनुपम भेंट है गेरुआ व मोतिया तालाब

Breaking news india news news in hindi business news latest hindi news world news newspoint24 com  state news     Gerua and Motia ponds    Vindhya Mountains     Mirzapur      Navratri

Newspoint24 /newsdesk   


विंध्य पर्वत के प्राकृतिक सौंदर्य की अनुपम भेंट है गेरुआ व मोतिया तालाब
जीर्णोद्धार-सुंदरीकरण के लिए सीएम योगी व पर्यटन मंत्री को लिखा पत्र

मीरजापुर। विंध्य पर्वत पर अवस्थित मोतिया और गेरुआ तालाब के प्रति भी लोगों की अगाध आस्था है। मान्यता है कि तालाबों में स्नान, ध्यान के बाद पास बने मंदिरों में पूजन से भक्तों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। नवरात्र के समय हजारों श्रद्धालु इसमें स्नान करते हैं। दोनों ही तालाब विंध्य पर्वत के प्राकृतिक सौंदर्य की अनुपम भेंट हैं। मां विंध्यवासिनी विंध्य पर्वत पर तीन महाशक्तियों के साथ विराजमान हैं।

विंध्य पर्वत पर विराजमान महाकाली मंदिर से एक किलोमीटर की दूरी पर गेरुआ तालाब है। यहां पर मां के लाडले भाई श्रीकृष्ण विराजते हैं। यहां पर त्रिभुवन मोहिनी भगवती राधा के साथ ब्रजनंदन श्रीकृष्ण नित्य रासलीला रचाते हैं। भक्तों को आज भी उनकी मुरली की मधुर तान कोयल, मोर आदि पक्षियों की बोलियों में सुनाई पड़ती है। गेरुआ तालाब से एक रास्ता मोतिया तालाब की ओर जाता है। मोतिया तालाब सरोवर के उत्तरी तट पर मुक्तेश्वर नाथ का शिवलिंग भी स्थापित है, जिनके दर्शन और सरोवर में स्नान मात्र से मुक्ति मिल जाती है।

सरोवर की ऐसी मान्यता है कि कुत्ता काटने पर यहां स्नान कर लेने मात्र से विष तत्काल समाप्त हो जाता है। तालाब के विषय में पुराणों में लिखा है कि जो भी भक्त इस सरोवर में स्नान कर मुक्तेश्वर नाथ की पूजा करता है, वह पापों से मुक्त हो जाता है।

विंध्याचल के तीर्थ पुरोहित ईश्वर दत्त त्रिपाठी ने बताया कि विंध्य पर्वत ऋषि मुनियों का तपस्थली है। गेरुआ तालाब के पास तमाम ऋषि मुनि निवास करते थे, क्योंकि विंध्य पर्वत पर गेरूआ व मोतिया तालाब के पास ही जल का संसाधन था। गेरुआ तालाब का जल भी गेरू रंग का दिखता है। इसी वजह से इसका नाम गेरुआ तालाब पड़ा। गेरुआ तालाब ही विंध्य पर्वत पर वह स्थान है, जहां ब्रह्म के उपासक आदिगुरु शंकराचार्य को मां विंध्यवासिनी की शक्ति की अनुभूति हुई थी। आदिगुरु शंकराचार्य ने लिखा था कि किसी भी साधक की साधना तब तक पूर्ण नहीं मानी जाएगी, जब तक वह विंध्याचल की इस धरा पर आकर मां विंध्यवासिनी के चरण रज को प्राप्त नहीं कर लेगा। गेरुआ तालाब जहां ब्रह्म शक्ति के साथ जुड़ा है, वहीं मोतिया तालाब मुक्ति के साथ जुड़ा है।

भू-जल रिचार्ज का अच्छा साधन है मोतिया व गेरुआ तालाब


नपा अध्यक्ष मनोज जायसवाल ने विंध्य पर्वत के त्रिकोण मार्ग पर प्राचीन तालाबों के जीर्णोद्धार एवं सुंदरीकरण के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व पर्यटन मंत्री नीलकंठ तिवारी को पत्र लिखा। नपा अध्यक्ष ने कहा कि त्रिकोण मार्ग पर गेरूआ एवं मोतिया तालाब काफी प्राचीन है। भू-जल रिचार्ज का अच्छा साधन है। विंध्य कारिडोर के साथ ही पर्यटन एवं धार्मिक दृष्टि से इन तालाबों का जीर्णोद्धार व सुंदरीकरण करना अति आवश्यक है।

Share this story