मोती नगर इलाके मे लगी आग, दमकल ने पाया आग पर काबू

newspoint24.com/newsdesk

नई दिल्ली । पश्चिमी जिले के मोती नगर इलाके में शुक्रवार देर रात एक इमारत की पहली मंजिल पर स्थित साइड मिरर बनाने वाली फैक्टरी में अचानक आग लग गयी। आग में तीसरी मंजिल पर मौजूद एक रेस्टोरेंट में दो महिला समेत पांच लोग फंस गये। जिन्हें दमकल कर्मियों ने हाइड्रोलिक क्रेन लगाकर सुरक्षित बाहर निकाल लिया। आग में भूतल से लेकर तीसरी मंजिल तक सब जलकर राख हो गया। हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ है। दमकल कर्मियों ने करीब पांच घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया। पुलिस आग लगने के कारणों की जांच कर रही है।
डीसीपी दीपक पुरोहित के अनुसार, शुक्रवार देर रात करीब साढ़े 12 बजे रामा रोड स्थित एक इमारत में आग लगने की सूचना मिली। सूचना मिलते ही दमकल की 25 गाडिय़ों को मौके पर रवाना कर दिया गया। साथ ही स्थानीय थाने की पुलिस, राहत बचाव दल और कैट्स एंबुलेंस भी मौके पर पहुंच गयी। 
दमकल कर्मियों ने देखा कि आग पहली मंजिल से शुरू होकर भूतल पहली, दूसरी और तीसरी मंजिल को अपने चपेट में ले चुकी है। तीसरी मंजिल पर स्थित मरकज रेस्टोरेंट में पांच लोग फंसे थे जो अपनी जान बचाने के लिए छत पर पहुंच गये थे और बचाव के लिए गुहार लगा रहे थे। दमकल कर्मियों ने तुरंत हाईड्रोलिक क्रेन को मौके पर बुलाया और उसकी मदद से छत पर फंसे दो महिला समेत पांच लोगों विरेंद्र, किरण, रिया, शहदाब और भूपेंद्र को सुरक्षित बाहर निकालकर उन्हें पास के अस्पताल में भर्ती कराया। जिन्हें प्राथमिक इलाज के बाद छुट्टी दे दी। दमकल कर्मियों ने करीब पांच घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया। जांच के बाद दमकल कर्मियों ने बताया कि आग पहली मंजिल पर स्थित साइड मिरर बनाने वाली फैक्टरी से शुरू हुई। यह फैक्टरी जामिया नगर निवासी शारिक जहूर की है। भूतल पर एक बाइक कंपनी(हार्ले डेविडसन) की एजेंसी है जो बंद पड़ी है। वहीं दूसरी मंजिल पर पीयूष अरोड़ा की रेडीमेड गारमेंटस फैक्टरी है जबकि तीसरी मंजिल पर मरकज रेस्टोरेंट है। यह इमारत इंद्रलोक निवासी फैजल के नाम रजिस्टर्ड है। 
पुलिस और एमसीडी की लापरवाही
इस मामले में दिल्ली पुलिस और एमसीडी की बड़ी लापरवाही देखने को मिली है। बता दें कि दिल्ली में सरकार ने दो दिनों के लिए नाइट कर्फ्यू की घोषणा की थी, लेकिन जिस बिल्डिंग  के बेसमेंट और फर्स्ट फ्लोर पर आग लगी थी उसी बिल्डिंग के थर्ड फ्लोर पर देर रात तक क्लब चल रहा था, जहां पर आग लगने के कारण लोग फंस गए। जिनको दमकल विभाग की टीम ने अपनी जान पर खेलकर बचाया। अब बड़ा सवाल ये है कि जब दिल्ली में नाइट कर्फ्यू था तो कैसे क्लब खुला था। हालांकि जो लोग बचाये गए उनके बारे में ये पता चला कि वो क्लब में आये थे। लेकिन कर्फ्यू के बावजूद क्लब कैसे चल रहा था, जिसके लिए सीधे सीधे पुलिस और एमसीडी जिम्मेदार है। आग में कोई घायल नही हुआ, आग लगने के कारण की संभावना शार्ट सर्किट बताया जा रह है। 

Share this story