निलंबित समाज कल्याण अधिकारी समेत 66 लोगों के खिलाफ एफआईआर

Newspoint24.com/newsdesk

मथुरा शासन द्वारा 23 करोड़ के छात्रवृत्ति घोटाले के मामले में मथुरा के समाज कल्याण अधिकारी रहे करुणेश त्रिपाठी को निलंबित करने के बाद शनिवार को समाज कल्याण के नए अधिकारी ने निलंबित अधिकारी और बाबूओं समेत 66 के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराई है। इसमें 62 आईटीआई कॉलेजों के प्रबंधक एवं संचालक भी शामिल हैं।

शनिवार को जिला समाज कल्याण अधिकारी रमाशंकर ने थाना सदर बाजार में छात्रवृत्ति घोटाले में पूर्व जिला समाज कल्याण अधिकारी करूणेश त्रिपाठी, नवीन महरोत्रा वरिष्ठ लिपिक, योगेश कुमार वरिष्ठ लिपिक, राहुल कुमार सहायक विकास अधिकारी और 62 आईटीआई कॉलेज प्रबंधकों के विरुद्ध वित्तीय वर्ष 2015-16 से लेकर 2019-20 तक फर्जी तरीके से कूटरचित दस्तावेज तैयार कर छात्रवृत्ति हड़पने का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया है। एसपी सिटी उदयशंकर ने बताया कि पूर्व जिला समाज कल्याण अधिकारी करूणेश त्रिपाठी सहित 66 आईटीआई प्रबंधक एवं संचालकों के विरूद्ध मामला दर्ज हो चुका है उन पर विधिक कानूनी कार्रवाई की जा रही है। 

उल्लेखनीय है कि निजी आईटीआई कॉलेजों में छात्रवृत्ति और शुल्क प्रतिपूर्ति (स्कॉलरशिप) के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मथुरा के जिला समाज कल्याण अधिकारी करूणेश त्रिपाठी को निलंबित कर दिया था। इसमें सीएम कार्यालय के आदेश पर तीन सदस्यीय जांच समिति ने छानबीन की थी। जांच समिति ने अलग-अलग तरीकों से छात्रवृत्ति और शुल्क प्रतिपूर्ति के नाम पर करीब 23 करोड़ के गबन की बात पाई थी। यही नहीं विभागीय अधिकारी-कर्मचारियों की मिलीभगत की भी पुष्टि हुई थी। इसी क्रम में तत्कालीन समाज कल्याण अधिकारी करूणेश त्रिपाठी को निलंबित करते हुए रमाशंकर को नया समाज कल्याण अधिकारी बनाया गया था।

Share this story