फतेहपुर: गांव पहुंचा शहीद सैनिक का पार्थिव शरीर, दर्शन के लिए उमड़ा जनसैलाब

Newspoint24 / newsdesk

Newspoint24 / newsdesk

फ़तेहपुर । जिले में रविवार को दो दिन पहले लद्दाख में शहीद सैनिक राजेश कुमार का शव सुबह गांव पहुंचा। दर्शन के लिए लोगों का जनसैलाब उमड़ पडा। पार्थिव शव देखते हुए परिजन शोक में डूब गये। हर व्यक्ति की आंखें नम हो गयी। लोग भारत माता की जय हो, वंदेमातरम, शहीद राजेश कुमार अमर रहे के नारे लगाते रहे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद के परिजनों को 50 लाख रुपये, एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी, शहीद के नाम से एक सड़क बनाने की घोषणा की है।

आज सुबह सेना के वाहन से शहीद सैनिक की शव यात्रा निकाली गई। इस दौरान चारों तरफ राजेश कुमार अमर रहे के नारे गूंजते रहे। अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों की मौजूदगी में शहीद का अंतिम संस्कार किया गया। अपने मिट्टी के लाल को हजारों लोगों ने आंसुओं के बीच अंतिम विदाई दी।

अमौली विकासखण्ड के खदरा गांव के निवासी राजेश कुमार प्रयागराज में सेना के चार डिफेंस ऑर्डिनेंस यूनिट में तैनात थे, जिन्हें अगस्त माह में इमरजेंसी ड्यूटी में लद्दाख भेजा गया था। शुक्रवार की सुबह प्रयागराज में उनकी पत्नी अंजली के पास राजेश कुमार के शहीद होने की फोन पर अधिकारियों ने खबर दी, जिसकी जानकारी अंजली ने परिवार को दी। आज शहीद की शवयात्रा निकाली गई। इस दौरान हजारों की संख्या में मौजूद लोग राजेश कुमार अमर रहें के नारे लगाते रहे। शहीद की पत्नी अंजली, बेटे राज व गौरव, शहीद की मां कमला देवी, पिता छोटेलाल, भाई दिनेश कुमार व बहनों के अलावा परिवार के अन्य सदस्य शव से लिपटकर रोते रहे। परिवार के लोगों को संभालना मुश्किल हो गया था। बाद में शहीद के शव को अंतिम दर्शन के लिए रखा गया। अंतिम दर्शन करने के लिए लोग उमड़ पड़े।

जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे, पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सिंह शहीद की शव यात्रा में शामिल हुए। जिले की सांसद व केंद्रीय राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति, प्रदेश के कारागार मंत्री जयकुमार जैकी समेत अन्य जनप्रतिनिधियों ने पार्थिव शरीर पर पुष्प चढ़ाकर शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित की। शवयात्रा में जिले के तमाम नेता व प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे।

इस मौके पर सांसद व केन्द्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने कहा शहीद सैनिक के परिजनों को हर तरह की मदद की जायेगी। मुख्यमंत्री ने 50 लाख रुपये, परिवार के एक सदस्य को नौकरी व शहीद के नाम से एक सड़क बनाने की घोषणा पहले ही कर दी है। देश के सैनिक देश की शान है। उनकी शहादत बेकार नहीं जायेगी। सरकार आतंकवाद को जड़ से उखाड़ फेकेंगी।

अंत्येष्टि स्थल पर पुष्प वर्षा के बीच उनका पार्थिव शरीर ले जाया गया। जहां परिजनों के साथ शहीद के पार्थिव शरीर को लखनऊ से लेकर आये सेना की टुकड़ी के जवानों ने भी राजकीय सम्मान के साथ शहीद के अंतिम संस्कार में शामिल रहे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद को अपनी श्रद्धांजलि देते हुए परिजनों को 50 लाख रुपये, एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी, शहीद का नाम से एक सड़क बनाने और परिजनों को हर संभव मदद देने की घोषणा की है।

हिन्दुस्थान समाचार

Share this story