मऊ में डॉ0 अलका राय ने मुख्तार अंसारी के खिलाफ दर्ज कराया मुकदमा

Newspoint24.com/newsdesk

मऊ। उत्तर प्रदेश में मऊ विधानसभा क्षेत्र से बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के पंजाब प्रांत के रोपड जेल से मोहाली न्यायालय तक यात्रा कराने वाली एंबुलेंस प्रकरण थमने का नाम नहीं ले रहा है औ शुक्रवार को यहां शहर कोतवाली में डॉ अलका राय ने मुख्तार अंसारी के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया है।

गौरतलब हो कि गत दिनों पंजाब में बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी द्वारा प्रयुक्त एंबुलेंस पर यूपी के बाराबंकी जिले का नंबर अंकित होने पर जांच की गई। इस दौरान पंजाब जेल प्रशासन के साथ ही जिला प्रशासन ने उस एंबुलेंस को अपना होने से मना कर दिया। इसके बाद जांच के दौरान वह “खास एंबुलेंस” मऊ जिले की वरिष्ठ भाजपा नेत्री डॉ अलका राय के अस्पताल के नाम से पंजीकृत पाया गया। हालांकि उक्त एंबुलेंस का पंजीकरण बाराबंकी जिले से कराया गया था।

पुलिस जांच के दौरान पता चला कि बाराबंकी आरटीओ ऑफिस में डॉ अलका राय के नाम मतदाता पहचान पत्र व एड्रेस प्रूफ दिया गया था जो फर्जी निकला। इस मामले में बाराबंकी जिले में डॉ अलका राय के खिलाफ 420 का मुकदमा दर्ज कराया गया। दूसरी ओर मऊ के शहर कोतवाली में खुद डॉ अलका राय ने विधायक मुख्तार अंसारी के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया है।

इस प्रकरण में सबसे बड़ी बात यह कि अपने बयान में डॉ अलका राय ने स्वीकार किया कि एक बार जब उनके किराए के मकान को तत्काल खाली करने का मौका आया उस समय वह जेल में विधायक मुख्तार अंसारी से मिली थी। जिनके रहमों करम पर उनको काफी दिनों तक रहने की सहूलियत मिली थी। उसके बाद वर्ष 2013 में विधायक के नुमाइंदों द्वारा विधायक निधि से एंबुलेंस खरीदने के नाम पर हॉस्पिटल से आवश्यक कागजात व हस्ताक्षर इत्यादि लिए गए थे। लेकिन उसके बाद उन्हें कुछ जानकारी नहीं प्राप्त हो सकी। ऐसे में उन्होंने विधायक मुख्तार अंसारी के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराते हुए एंबुलेंस प्रकरण में किसी तरह की संलिप्तता से इंकार किया है।

Share this story