उप्र में वाणिज्य कर के अधिकारी व कर्मचारी आंदोलन की तैयारी में

उप्र में वाणिज्य कर के अधिकारी व कर्मचारी आंदोलन की तैयारी में

Newspoint24 / newsdesk

लखनऊ । उत्तर प्रदेश वाणिज्य कर विभाग के अधिकारी और कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर आंदोलन की तैयारी में हैं। विभाग के अधिकारी कर्मचारी महासंघ का कहना है कि अपर मुख्य सचिव के साथ हुई वार्ता के एक माह बाद भी उनकी मांगों के संबंध में अभी तक शासन से कोई आदेश जारी नहीं हुआ है।

अधिकारी कर्मचारी महासंघ के प्रदेश महामंत्री सुरेश सिंह यादव ने रविवार को यहां बताया कि समस्याओं और मांगों को लेकर गत नौ जुलाई को अपर मुख्य सचिव वाणिज्य कर से वार्ता हुई थी। इस दौरान अपर मुख्य सचिव द्वारा कई बिंदुओं पर आश्वासन दिए जाने के बावजूद आज तक कोई आदेश नहीं जारी किया गया।

उन्होंने बताया कि उस समय वार्ता में सेवा संघ के अध्यक्ष राजवर्धन सिंह, मिनिस्ट्रियल स्टाफ के प्रदेश अध्यक्ष कमलदीप एवं चालक संघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रेम प्रकाश समेत विभिन्न संघों के प्रतिनिधियों ने बैठक में भाग लिया था।

कर्मचारी नेता ने बताया कि 12 जुलाई की बैठक में कैडर पुनर्गठन लागू कराने को लेकर वार्ता हुई थी लेकिन आज तक उस संबंध में कोई कार्यवाही नहीं हुई और न ही जिन बिंदुओं पर अपर मुख्य सचिव द्वारा आश्वासन दिया गया था उन पर कोई आदेश जारी हुआ। ऐसी स्थिति में प्रदेश के अधिकारियों और कर्मचारियों में काफी आक्रोश है।

सुरेश सिंह यादव ने बताया कि अपर मुख्य सचिव द्वारा एसीपी का लाभ, विभाग में पीआरडी जवानों को तैनाती किए जाने एवं मृतक आश्रितों को तुरंत नौकरी दिए जाने, रिक्त पदों पर भर्ती का आश्वासन समेत कई बिंदुओं पर सहमति बनी थी जिसको लेकर संगठन ने धरना प्रदर्शन को स्थगित किया था।

उन्होंने अपर मुख्य सचिव वाणिज्य कर से अपील की है कि नौ जुलाई की बैठक में दिए गए आश्वासनों को तत्काल लागू किया जाए जिससे अधिकारी कर्मचारी में व्याप्त रोष को समाप्त हो। अन्यथा वाणिज्य कर विभाग में आंदोलन की स्थिति उत्पन्न हो सकती है।

कर्मचारी नेता का आरोप है कि इस संबंध में प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं मुख्य सचिव के स्पष्ट आदेश का अनुपालन भी शासन द्वारा नहीं किया जा रहा है। उनका सवाल है कि ऐसे में कर्मचारी अधिकारी अपनी समस्या को लेकर किसके पास जाए। अब उनके पास गांधीवादी लोकतांत्रिक व्यवस्था के अनुसार धरना प्रदर्शन के अलावा कोई और विकल्प नहीं है।

हिन्दुस्थान समाचार 

Share this story