रेल यात्रियों के कोरोना जांच कर्मियों की सुरक्षा में तीन शिफ्टों में 25 सुरक्षा गार्ड तैनात

प्रधानमंत्री के सुरक्षा मामले को लेकर भाजपा नेताओं ने दिया मौन धरना सिंह

Newspoint24/संवाददाता /एजेंसी इनपुट के साथ

सहरसा। सिविल सर्जन डॉ अवधेश कुमार ने जिला प्रशासन से रेलवे स्टेशन पर आने-जाने वाले रेल यात्रियों की कोरोना जांच के लिए कम से कम 25 सुरक्षा गार्ड नियुक्ति की मांग की है। जिससे प्रतिदिन लगभग स्थानीय रेलवे स्टेशन पर आने-जाने वाले लगभग 32 ट्रेनों में सफर करने वाले 10 हजार से अधिक रेल यात्रियों की समुचित कोरोना जांच संपन्न कराई जा सके।

ज्ञात हो कि कोरोना जांच के लिए रेल यात्री रेलवे स्टेशन पर नियुक्त स्वास्थ्य कर्मियों के साथ बहसबाजी और बदतमीजी पर उतर आ रहे थे। जिससे रेल यात्रियों की समुचित कोरोना जांच नहीं हो पा रही थी।

ऐसे में स्वास्थ्य कर्मी भी खुद को लाचार और मजबूर बता रहे थे। साथ ही वे लोग सुरक्षा गार्ड की मांग भी रख रहे थे। रेल यात्रियों की कोरोना जांच में आ रही समस्या को देखते हुए स्वास्थ्य कर्मियो की सुरक्षा के लिए सुरक्षा गार्ड की नियुक्ति की मांग की।

सिविल सर्जन द्वारा भेजे गए मांग पत्र पर जिला प्रशासन ने भी संज्ञान लिया। स्थानीय पुलिस लाइन के सार्जेंट मेजर को तलब कर स्वास्थ्य कर्मी की सुरक्षा के लिए 25 होमगार्ड के सशक्त जवान को नियुक्त करने का आदेश निर्गत किया है।

जिसके आलोक में शुक्रवार से तीनों शिफ्टों में समुचित सुरक्षा गार्ड को मुहैया कराया गया है। जिसके आलोक में आज से रेल यात्रियों की कोरोना जांच की गति में तेजी आयी है।

सिविल सर्जन अवधेश कुमार ने बताया कि जिला प्रशासन से रेलवे स्टेशन पर कोरोना जांच में आ रही कमी को देखते हुए सुरक्षा गार्ड की मांग की गई थी। सार्जेंट मेजर ने होमगार्ड के जवान को नियुक्ति किया गया है। जिससे रेल यात्रियों की जांच में तेजी आएगी। जिले में कोरोना पर काबू पाया जा सकेगा।

Share this story