शीघ्रपतन (शीघ्र स्खलन) पर कंट्रोल कैसे करें ? 30 % पुरुष कभी न कभी इसके हुए है शिकार

पुरुष  सामान्य रुप से सेक्स पावर को लेकर ज्यादा ही संवेदनशील होते है ,विशेषकर जब बात शीघ्रपतन की हो तब ,जाने अनजाने में गलत इलाज से अपना जीवन बिगाड़ लेते है ,एक रिपोर्ट के मुताबिक 30 % पुरुष इस बीमारी से कभी न कभी अपने जीवन में परेशान हुए है। संवेदनशीलता और उत्तेजना के स्तर नाकाम होने पर उनके वैवाहिक जीवन पर इसका बहुत उल्टा प्रभाव पड़ता है। आइये जाने इस बारे में सही  जानकारी।  

Newspoint24.com/newsdesk/

1. अपने स्खलन रिफ्लेक्स पर नियंत्रण पाएं  

नियमित रूप से (प्रति सप्ताह तीन से पांच बार) संवेदनशीलता और उत्तेजना के स्तर के आदी बनने के लिए स्वयं उत्तेजक (हस्तमैथुन) से शुरू करें। अलग-अलग संवेदनाओं का आदि होने के लिए गीले हाथ और सूखे हाथ दोनों के साथ हस्तमैथुन करने की कोशिश करें।

जब तक आपको वीर्यपात होना महसूस हो, तब तक हस्तमैथुन करते हुए नियंत्रण करने का प्रयास करें, वीर्यपात होने से पहले ही हस्तमैथुन रोक दें, अब उत्तेजना कम हो जाने दे, लगभग पांच मिनट या उससे अधिक और तब फिर से हस्तमैथुन करना शुरू करें। अंततः वीर्यपात होने से पहले तीन या चार बार इस क्रिया का प्रयोग करें।

इस क्रिया का अभ्यास करने से आपको यह जानने में मदद मिलेगी कि आपका "गैर-वापसी का बिंदु" कहां है, ताकि साथी से सेक्स के दौरान जब आपको लगता है कि वीर्यपात होने वाला है, तो आप यौन स्थितियों को बदलने के लिए लिंग बाहर खींच लें। इससे एक पल के लिए वीर्यपात रोक सकते हैं।

दूसरा, आप अपना स्ट्रोक बदल सकते हैं (सेक्स के दौरान अंदर और बाहर के बजाय आप अपने साथी के अंदर अपने लिंग को छोड़ सकते हैं और सर्कल में जा सकते हैं, जो थोड़ा कम उत्तेजक हो सकता है)। स्खलन पर नियंत्रण पाने के लिए आपके 'गैर-वापसी का बिंदु' का क्या अर्थ है, यह जानना महत्वपूर्ण है।

2. पैल्विक फ्लोर मांसपेशी व्यायाम

तीन महीने के नियमित पैल्विक फ्लोर मांसपेशियों के अभ्यास के बाद 55 पुरुषों के ऊपर एक छोटे से अध्ययन में पेनाइल फंक्शन में सुधार देखा गया और छह महीने बाद 40 प्रतिशत पुरुषों ने सामान्य स्तंभन फंक्शन पुनः प्राप्त कर लिया था।

अपने पैल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को पहचानें। जब पेशाप करते-करते उसे बीच में रोकते हैं तो इसके लिए आपके द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली मांसपेशियां आपके पैल्विक फ्लोर की मांसपेशियां हैं। जब आप इन मांसपेशियों को सिकोड़ते हैं तो आपके अंडकोष ऊपर उठ जाते हैं।

अब जब आप जानते हैं कि ये मांसपेशियां कहाँ हैं, उन्हें 5 से 20 सेकंड के लिए सिकोड़े और फिर उन्हें सामान्य रूप में छोड़ दे। इस अभ्यास को एक साथ 10 से 20 बार दोहराएं, दिन में तीन से चार बार आप यह अभ्यास कर सकते हैं।

3. कंडोम का इस्तेमाल करें 

कंडोम का उपयोग करने से स्खलन के समय को बढ़ाने में भी मदद मिलती है। वे संभोग के दौरान संवेदनशीलता को कम करने का काम करते हैं, इसलिए वे शीघ्र स्खलन की समस्या के लिए सहायक हो सकते हैं। ऐसे ब्रांड के कंडोम का प्रयोग करें जो आकार में थोड़े मोटे हो।

Your 8 Biggest Sex Questions — Answered!  I'M NOT GETTING TURNED ON! WHY? Lack of libido is a common problem as women get older and experience the hormonal changes of menopause, but it can happen at any age. Fluctuating hormone levels can contribute (perimenopause can begin as early as age 35), but so can stress at home or at work. Medications (some antidepressants and birth control pills have been linked to lowered sex drive), poor physical fitness, and lack of sleep can also be factors.  If yo

4. सेक्स से पहले हस्तमैथुन करें

बहुत से पुरुषों को दूसरी बार उत्तेजना के दौरान कम संवेदनशीलता का अनुभव होता है। अक्सर समय से पहले स्खलन के लिए एक अच्छा इलाज है - एक बार सेक्स से पहले ही वीर्यपात करना (शायद संभोग के दौरान), और फिर उत्तेजना प्राप्त करके अपने साथी को खुश करने के लिए आगे बढ़ें। दूसरी उत्तेजना का उपयोग लंबे समय तक कर सकेंगे।

हालांकि कुछ जोड़ों ने शुरू में इस तरीके के बारे में शिकायत की है, लेकिन इसने बहुत से जोड़ों के लिए बहुत अच्छा काम किया है।

5. ड्रग्स और सुन्न करने वाली क्रीम या स्प्रे

पीई यानी शीघ्र स्खलन का इलाज करने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका में किसी ड्रग्स को मंजूरी नहीं दी गई है। फिर भी, कुछ दवाएं और क्रीम या स्प्रे है। जो पीई से पीड़ित पुरुषों में स्खलन धीमा करने के लिए प्रायोगिक स्तर पर उपयोगी पायें गए हैं।

कृपया ध्यान दें कि निम्न दवाएं केवल सामान्य जानकारी के उद्देश्य से बताई गयी है। सख्त हिदायत दी जाती है कि किसी भी दवा को एक अच्छे डॉक्टर की सिफारिश के बिना न लें।

डॉक्टरों ने प्रायोगिक चरण में यह पाया है कि एंटीडिप्रेसेंट के प्रयोग से पुरुषों और महिलाओं में ओर्गास्म प्राप्त करने में देरी होती है। फ्लूक्सैटिन (Fluoxetine), परोक्सेटीन (Paroxetine), सर्ट्रालाइन (Sertraline) और क्लॉमिप्रामाइन (Clomipramine) जैसे ड्रग्स सेरोटोनिन के स्तर को प्रभावित करते हैं। पीई का इलाज करने के लिए डॉक्टरों ने इन दवाओं का इस्तेमाल "ऑफ-लेबल" (दवा के मूल उपयोग से अलग कारण के लिए) करना शुरू कर दिया।

पीई के लिए दवाएं हर दिन या केवल सेक्स से पहले ही ली जा सकती हैं। आपका डॉक्टर आपकी गतिविधि स्तर के आधार पर तय करेगा कि आपको कौनसी दवा लेनी चाहिए। दवा लेने का सबसे अच्छा समय स्पष्ट नहीं है। ज्यादातर डॉक्टर सेक्स से पहले 2 से 6 घंटे का सुझाव देते हैं। यदि आप ये दवाएं लेना बंद कर देते हैं तो पीई वापस आ सकता है। पीई वाले अधिकांश लोगों को एक निरंतर आधार पर इन दवाओं को लेने की जरूरत होती है।

ये क्रीम या स्प्रे लिंग के मुँह पर 20 से 30 मिनट सेक्स से पहले लगाए जाते हैं। यदि आप उपयोग के लिए निर्धारित मात्रा से अधिक समय तक अपने लिंग पर क्रीम या स्प्रे छोड़ते हैं, तो आपकी उत्तेजना समाप्त हो सकती है, इसलिए मात्रा संबंधी निर्देशों का सख्ती से पालन करें। सेक्स से 5 से 10 मिनट पहले अपने लिंग पर लगे क्रीम या स्प्रे को धो लें। इसे सेक्स के दौरान लिंग पर बिलकुल भी लगा न रहने दे, क्योंकि आपके साथी की योनि को नुकसान हो सकता हैं।

साभार : माई उपचार 
 

Share this story