त्रिपुरा के खोवई जिले में टीएमसी - भाजपा समर्थक आमने-सामने झड़प में दो पुलिसकर्मी भी घायल 

Two policemen also injured in face-to-face clash with TMC-BJP supporters in Tripura's Khowai district

एडीजी (ला एंड आर्डर) सुब्रत चक्रवर्ती ने कहा कि कालीतिला इलाके में बुधवार रात

करीब साढ़े नौ बजे उस वक्त यह विवाद शुरू हुआ, जब टीएमसी कार्यकर्ता

प्रदर्शन कर रहे थे। उसी दौरान वो भाजपा कार्यालय के पास पहुंच गए।

Newspoint24/ एजेंसी इनपुट के साथ 

अगरतला। त्रिपुरा में खोवई जिले के तेलियामुरा में भारतीय जनता पार्टी और तृणमूल के समर्थकों के बीच हुई झड़प में 19 लोग घायल हो गए।

फिलहाल इलाके में धारा 144 लागू कर दी गई है। पुलिस का कहना है कि राज्य में नगर निकाय चुनावों से कुछ दिन पहले हुई इस झड़प में घायल हुए लोगों में दो पुलिसकर्मी भी शामिल हैं।

कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए तेलियामुरा एसडीएम मोहम्मद सज्जाद पी ने वार्ड 13,14 और 15 में धारा 144 लगा दी। यह आदेश 24 नवंबर तक लागू रहेगा।

एडीजी (ला एंड आर्डर) सुब्रत चक्रवर्ती ने कहा कि कालीतिला इलाके में बुधवार रात करीब साढ़े नौ बजे उस वक्त यह विवाद शुरू हुआ, जब टीएमसी कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे थे।

उसी दौरान वो भाजपा कार्यालय के पास पहुंच गए। उन्होंने बताया कि दोनों दलों के समर्थक आमने-सामने आ गए।

अचानक से टीएमसी कार्यकर्ताओं ने भाजपा समर्थकों पर हमला कर दिया। उसके बाद दूसरे पक्ष ने भी हमला किया। चक्रवर्ती ने कहा कि पुलिस ने दोनों गुटों को शांत करने की कोशिश की। स्थिति नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस का भी प्रयोग करना पड़ा।

घटना के सिलसिले में तेलियामपुरा पुलिस थाने में तीन मामले दर्ज किए गए। इनमें दो मामले टीएमसी कार्यकर्ता अनिर्बान सरकार के पिता ने दर्ज कराए हैं।

उसे चोट लगने की वजह से अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने बताया कि सरकार समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें से चार को अदालत के समक्ष पेश किया गया, जहां से इन्हें 30 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। सरकार को अस्पताल में भर्ती होने की वजह से अदालत में पेश नहीं किया जा सका।


 


उधर, टीएमसी नेता सुष्मिता देव ने आरोप लगाया कि 25 नवंबर को स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के शीर्ष अदालत के निर्देशों के बावजूद उनकी पार्टी के उम्मीदवारों और कार्यकर्ताओं पर हमले हो रहे हैं। 

Share this story