निशी छात्र संघ का इटानगर बंद हुआ हिंसक, कई गाड़ियां फूंकी

Nishi Student Union's Itanagar closed violently, many vehicles burnt

आनशू समर्थकों का कहना है कि बंद के दौरान सभी सरकारी कार्यालयों को भी बंद करने का निर्देश दिया था।

लेकिन, राज्य के मुख्य सचिव नरेश कुमार सचिवालय स्थिति अपने कार्यालय में पहुंच गये। इस वजह से छात्र संगठन हिंसक हो उठा।

Newspoint24/ एजेंसी इनपुट के साथ 

निशी छात्र संघ का इटानगर बंद हुआ हिंसक, कई गाड़ियां फूंकी

-सचिवालय के घेराव की कोशिश, भारी संख्या में सुरक्षा बल तैनात

इटानगर । ऑल निशी छात्र संघ (आनशू) के 14 सूत्रीय मांगों के समर्थन में मंगलवार को 12 घंटे के इटानगर बंद के दौरान जमकर हिंसा हुई है। सुबह 11 बजे के पहले बंद बेहद शांतिपूर्ण तरीके से चला। इसके बाद बंद समर्थक सड़कों पर उतरकर हिंसा फैलाने लगे।

बंद समर्थकों इटानगर के अगल-अलग हिस्सों में जमकर उत्पात मचाया। सचिवालय के पास से गुजरने वाली सड़क पर वाहनों को रोककर तोड़फोड़ की। इसके बाद उनमें आग लगा दिया। हालात बेकाबू होने पर पुलिस और केंद्रीय अर्धसैनिक बलों को संवेदनशील इलाकों में तैनात किया है।

आनशू समर्थकों का कहना है कि बंद के दौरान सभी सरकारी कार्यालयों को भी बंद करने का निर्देश दिया था। लेकिन, राज्य के मुख्य सचिव नरेश कुमार सचिवालय स्थिति अपने कार्यालय में पहुंच गये। इस वजह से छात्र संगठन हिंसक हो उठा।

निशी छात्र संघ ने चेतावनी दी थी कि आज कोई सरकारी अधिकारी काम नहीं कर सकता। बंद समर्थक सचिवालय के सामने पहुंच गए। सभी कर्मचारियों को सचिवालय से बाहर निकलने के लिए चेताते रहे। सचिवालय को कई घंटों तक घेरे रखा। जब कोई भी सरकारी कर्मचारी सचिवालय से बाहर नहीं निकला तो बंद समर्थक हिंसक हो गए। सारा गुस्सा सड़कों और वाहनों पर निकाला।

राजधानी इलाके में भारी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। पुलिस हिंसा फैलाने वालों की तलाश में जुट गई है। फिलहाल किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

यह भी पढ़ें : 

मणिपुर की सत्ता में आने पर हमने बंद, हड़ताल और नाकाबंदी तीनों को खत्म कर दिया : अमित शाह

Share this story