टिकैत से मिलने के बाद बोलीं ममता बनर्जी, ' केंद्र को वापस लेना ही होगा कृषि कानून '

Newspoint24 / newsdesk Mamta Banerjee said after meeting Tikait, 'Agriculture law will have to be withdrawn by the center'

Newspoint24 / newsdesk 

कोलकाता। किसान नेता राकेश टिकैत से मुलाकात करने के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने किसानों की मांगों का समर्थन करते हुए कहा है कि केंद्र सरकार को हर हाल में तीनों कृषि कानूनों को वापस लेना ही होगा।

बुधवार को पश्चिम बंगाल राज्य सचिवालय में मुख्यमंत्री ने राकेश टिकैत के साथ पत्रकारवार्ता की। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि केंद्र सरकार ने वैक्सीन पर भी जीएसटी लगाया है, जिसे तत्काल वापस लेना चाहिए। कोरोना नीति के संबंध में केंद्र सरकार कोई भी जानकारी नहीं दे रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि केन्द्र सरकार ने टीकाकरण के लिए 35 हजार करोड़ रुपये का बजट बनाया गया था, जो कहां गया पता नहीं चल रहा है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर टीकाकरण में भी भेदभाव की राजनीति करने का आरोप लगाया। 



पत्रकार वार्ता के दौरान किसानों के आंदोलन का समर्थन करते हुए ममता ने कहा कि केंद्र सरकार ने जबरदस्ती कृषि कानूनों को संसद में पारित किया है। अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों से भी इस बारे में बात हो रही है। केन्द्र सरकार जब तक तीनों कानून वापस नहीं लेती है, तब तक आंदोलन जारी रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य देने को लेकर भी ठोस कानून बनाए जाने की जरूरत है। ममता ने कहा कि सात महीने से किसानों का आंदोलन चल रहा है लेकिन केंद्र सरकार इनसे बात करने की जहमत तक नहीं उठा रही है। उन्होंने बाकी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को भी इस मामले में एकजुट होने का आह्वान करते हुए कहा कि संघीय ढांचे को बचाकर रखने के लिए जरूरी है कि सब एक होकर अन्याय के खिलाफ प्रखर आंदोलन करें।

बंगाल जो रास्ता दिखाएगा, उसी पर पूरा देश चलेगा : टिकैत 


पश्चिम बंगाल पहुंचे किसान नेता ने ममता बनर्जी के तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने पर उन्हें शुभकामनाएं दी और आने वाले चुनाव में भी इसी तरह का परिणाम आने की भविष्यवाणी की है। उन्होंने कहा कि बंगाल जो रास्ता दिखाता है, उसी पर पूरा देश चलता है और इस बार भी ऐसा ही होगा। उन्होंने कहा कि जीत के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को बधाइयां देने के लिए मैं बंगाल आया हूं। कृतज्ञ हूं कि ममता बनर्जी का, जिन्होंने किसान आंदोलन का समर्थन किया है।

Share this story