कृषि कानूनों की वापसी पर बॉलीवुड से आई प्रतिक्रिया : कंगना बोली  कृषि कानूनों की वापसी दुखद, शर्मनाक और सरासर गलत 

Bollywood's reaction to the return of agricultural laws: Kangana said that the return of agricultural laws is sad, shameful and utterly wrong

कंगना की इस प्रतिक्रिया से समझा जा सकता है कि वे

इस फैसले से काफी आहत हैं। दरअसल, कंगना रनौत

ने केन्द्र सरकार के द्वारा पास किए गए इन तीनों

कृषि कानूनों का जमकर समर्थन किया था।

Newspoint24/ एजेंसी इनपुट के साथ 

 

नयी दिल्ली। पीएम मोदी के द्वारा कृषि कानूनों वापस लेने के फैसले पर लोगों की कई तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं। पीएम मोदी के इस निर्णय को जहां कई लोग मास्टर स्ट्रोक बता रहा है तो कोई इस पर अपनी कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए पूछ रहे हैं क्या अब सीएए और धारा 370 पर भी ऐसा होगा।

वहीं हर एक मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने वाली अभिनेत्री कंगना रनौत ने पीएम मोदी के इस फैसले पर नाराजगी व्यक्त की है। कंगना रनौत ने अपने इंस्टाग्राम पर लिखा है, 'दुखद, शर्मनाक और सरासर गलत... अगर संसद में बैठी सरकार के बजाय गलियों में बैठे लोग कानून बनाना शुरू कर दें तो यह भी एक जिहादी देश है... उन सभी को बधाई जो ऐसा चाहते हैं।' 

साउथ के लोकप्रिय अभिनेता प्रकाश राज ने कहा 
उधर दूसरी ओर साउथ के लोकप्रिय अभिनेता प्रकाश राज ने तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने के फैसले पर ट्वीट किया कि हमारे किसानों ने बादशाह को घुटनों पर ला दिया। वहीं सोनू सूद ने इसे ऐतिहासिक फैसला बताया। उधर, कंगना रनौत ने इस पर गुस्सा जाहिर किया और कानून वापसी को दुखद, शर्मनाक और अनुचित करार दिया। 

प्रकाश राज ने किसान आंदोलन के समर्थन में उनके द्वारा पढ़ी गई एक कविता का वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो के साथ ही उन्होंने लिखा, मेरे देश के अथक संघर्षरत किसानों ने बादशाह को घुटनों पर ला दिया है...तीन कृषि कानूनों के खिलाफ और किसानों के विरोध के समर्थन में अनिता नायर द्वारा लिखी और मेरे द्वारा सुनाई गई कविता साझा कर रहा हूं। #जय किसान #जस्टस्किंग।

कंगना की इस प्रतिक्रिया से समझा जा सकता है कि वे इस फैसले से काफी आहत हैं। दरअसल, कंगना रनौत ने केन्द्र सरकार के द्वारा पास किए गए इन तीनों कृषि कानूनों का जमकर समर्थन किया था। यहां तक की कंगना ने किसानों को आतंकी तक कह दिया था।

उन्होंने लिखा था, प्रधानमंत्री जी कोई सो रहा हो उसे जगाया जा सकता है, जिसे गलतफहमी हो उसे समझाया जा सकता है मगर जो सोने की ऐक्टिंग करे, नासमझने की एक्टिंग करे उसे आपके समझाने से क्या फर्क पड़ेगा?

उन्होंने आगे लिखा था, ये वही आतंकी हैं CAA से एक भी इंसान की सिटिज़ेन्शिप नहीं गयी मगर इन्होंने खून की नदियां बहा दी। इस बयान के बाद उनकी काफी आलोचना हुई थी। उनकी गिरफ्तारी की भी मांग उठी थी। 

आपको बता दें कि शुक्रवार को पीएम मोदी ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा, मैं देश वासियों के क्षमा मांगते हुए, सच्चे मन से कहना चाहता हूं कि हमारे प्रयास में कमी रही होगी कि हम उन्हें समझा नहीं पाए। आज मैं आपको यह बताने आया हूं, कि हमने तीन कृषि कानूनों को वापस लेने का फैसला किया है।

पीएम मोदी ने कहा- इस महीने के अंत में शुरू होने जा रहे संसद सत्र में तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की प्रक्रिया शुरू कर देंगे। पीएम मोदी ने आंदोलन कर रहे किसानों से अपने घर लौटें और खेतों में लौटने की अपील की।
 
किसान वापस अपने खेतों में आयेंगे : सोनू सूद 
सोनू सूद ने भी ट्विटर पर तीन कृषि कानूनों के वापस लिए जाने के फैसले को ऐतिहासिक बताते हुए अपनी बात रखी। उन्होंने ट्वीट में लिखा- किसान वापस अपने खेतों में आयेंगे। देश के खेत फिर से लहललहाएंगे। धन्यवाद नरेंद्र मोदी जी। इस ऐतिहासिक फैसले से किसानों का प्रकाश परब और भी ऐतिहासिक हो गया। जय जवान जय किसान। 

Share this story