महंत नरेंद्र गिरि मौत केस : आनंद गिरि सहित अन्य पर आत्महत्या के लिए उकसाने की साजिश के तहत चार्जशीट दाखिल 

Mahant Narendra Giri's death case: Chargesheet filed against Anand Giri and others under conspiracy to abet suicide

तीनों आरोपियों के खिलाफ शनिवार को मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी प्रयागराज की

अदालत में आरोपपत्र दाखिल किया गया। कोर्ट ने चार्जशीट पर संज्ञान

लेते हुए सुनवाई की अगली तारीख 25 नवंबर तय की है। 

Newspoint24/ संवाददाता


प्रयागराज। महंत नरेंद्र गिरि की मौत मामले में सीबीआई ने चार्जशीट अदालत में पेश की ,  सीबीआई की चार्जशीट में आनंद गिरि और आध्या तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने और आपराधिक साजिश की धाराओं के तहत आरोप दर्ज है।

 आत्महत्या के लिए उकसाने की  साजिश के तहत चार्जशीट

आनंद गिरि, आध्या तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने और आपराधिक साजिश की धाराओं के तहत चार्जशीट दाखिल की गई है। तीनों आरोपियों के खिलाफ शनिवार को मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी प्रयागराज की अदालत में आरोपपत्र दाखिल किया गया। कोर्ट ने चार्जशीट पर संज्ञान लेते हुए सुनवाई की अगली तारीख 25 नवंबर तय की है। अदालत ने तीनों आरोपियों की न्यायिक हिरासत भी 25 नवंबर तक बढ़ा दी।

महंत नरेंद्र गिरि का शव 20 सितंबर को श्री मठ बाघंबरी गद्दी के एक कमरे में मिला था। शव छत से लटका हुआ था। गिरि द्वारा लिखे गए सुसाइड नोट में, उन्होंने अपने शिष्य आनंद गिरि, आध्या तिवारी और उनके बेटे संदीप पर ब्लैकमेल और उत्पीड़न का आरोप लगाए थे। तब यूपी पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया था। हालांकि, आनंद गिरि ने दावा किया है कि महंत नरेंद्र गिरि ने आत्महत्या नहीं की है बल्कि उनकी हत्या कर दी गई। उन्होंने यह भी कहा कि महंत गिरी की मौत के पीछे एक बड़ी साजिश है।

शुरूआत में इस मामले की जांच यूपी पुलिस ने की थी, बाद में यूपी सरकार के अनुरोध पर यह मामला सीबीआई को सौंप दिया गया। जांच के बाद अक्टूबर में, सीबीआई ने एक आवेदन दायर कर तीनों आरोपियों की पॉलीग्राफिक टेस्ट की अनुमति मांगी थी। जांच अधिकारी ने अपने आवेदन में कहा कि संदिग्ध पूछताछ के दौरान टाल-मटोल कर रहे थे और उन्होंने सहयोग नहीं किया।

यह भी पढ़ें :

बाघम्बरी मठ को लेकर महंत नरेन्द्र गिरि और आनंद गिरि के बीच थी अनबन

Share this story