शाइन सिटी घोटाले में वांछित 12 आरोपी नोएडा के होटल में गिरफ्तार

शाइन सिटी घोटाले में वांछित 12 आरोपी नोएडा के होटल में गिरफ्तार

Newspoint24 / newsdesk /एजेंसी इनपुट के साथ 



लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने करोड़ों रुपये के शाइन सिटी घोटाले के मामले में वांछित 12 लोगों को नोएडा के एक होटल से ठगी करने की नियत से क्वाइन केक एक्सचेंज ओ वर्चुअल क्वाइन लांच करते समय आज गिरफ्तार कर लिया।
एसटीएफ प्रवक्ता ने यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि शाइन सिटी कंपनी के पूर्व टेक्निकल हेड विक्रांत यादव होटल पार्क एसेंट नोएडा मे ठगी करने की नियत से एक और कंपनी को लांच कर रहा है। इस सूचना पर नोएडा एसटीएफ के अपर पुलिस अधीक्षक राजकुमार मिश्रा के नेतृत्व मे साइबर क्राइम टीम एवं थाना सेक्टर 58 की पुलिस टीम ने संयुक्त रुप से कार्रवाई करते आज सुबह साढ़े नौ बजे होटल पार्क एसेन्ट सेक्टर 62 नोएडा से 12 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया।

उन्होंने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों में लखनऊ निवासी विक्रम सिंह यादव,मुजफ्फरनगर निवासी आशीष कुमार व निशांत कुमार के अलावा अमृतसर निवासी मंजीत सिंह पूर्व एसोसिएट शाइन सिटी, रंजीत सिंह , गोपालगंज बिहार निवासी शैलेश कुमार राय ,कानुपर निवासी संदीप सोलोमन व धीरज निगम ,झारखण्ड निवासी अरविन्द कुमार मिश्रा, विपुल कुमार सिंह ,सुलतानपुर निवासी इन्द्रजीत यादव लखनऊ निवासी पूजा कन्नौजिया को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार आरोपी शाइन सिटी कंपनी के पदाधिकारी हैं।

प्रवक्ता ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों के कब्जे से 16 मोबाइल फोन, डायरी, लैपटॉप, एटीएम कार्ड व आधार कार्ड के अलावा बड़ी संख्या में अन्य कागजात के अलावा डेढ़ लाख से अधिक की नकदी ,दो लग्जरी वाहन आदि बरामद की गई। उन्होंने बताया कि शाइन सिटी घोटाले की जांच आर्थिक अपराध अनुसन्धान संगठन द्वारा की जा रही है। उन्होंने बताया कि शाइन सिटी ग्रुप आफ कम्पनीज के विरूद्व उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलो में 284 मामले दर्ज हैं। गिरफ्तार आरोपी उन्हीं मामलो में वांछित थे।


गिरफ्तार आरोपी आशीष कुमार ने पूछताछ पर बताया कि उसने लंदन की कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से 2011 में फोरन ट्रेड एण्ड मार्केट इनवेस्टमेंट में एमबीए किया था। उसके बाद वह वर्ष 2018 में इंडिया आया और शाइन सिटी में टेक्निकल हेड के पद पर ज्वाइन किया लेकिन 2019 में कंपनी प्रमुख राशिद नसीम कम्पनी बंद कर देश छोड़ कर दुबई फरार हो गया। इसी समय उसकी मुलाकात विक्रम यादव से भी हुई जो विक्रान्त टीम के सीनियर बिजनेस मैनेजर थे। वर्तमान समय में राशिद नसीम दुबई में रह रहा है।

पूर्व में राशिद नसीम ने हम लोगों के सहयोग से एसवीसी शाइन वर्चुअल क्वाइन) लांच किया गया था। उसके द्वारा इस स्किम में लोगों से करोड़ों की ठगी की गयी। उसी ने हम लोगों को भी बोला था कि इस समय वर्चुअल करेन्सी के काम में बहुत फायदा है। लोगों को एक वर्ष में धन दोगुना करने का प्रलोभन देकर अपना वर्चुअल क्वाइन लांच कर दो। जब कम्पनी में अरबों रूपये आ जाये तो मेरी तरह कम्पनी बन्द कर सारा रूपया लेकर विदेश भाग जाना। अवैध धन अर्जित करने की लालच मैंने विक्रान्त यादव की मदद से एक प्लान बनाया कि चेन सिस्टम से ( पेयर लेफ्ट राइट जोडने पर ) अधिक मुनाफा मिलेगा।


गिरफ्तार आशीष ने बताया कि लांच के लिए उपरोक्त लोगों सेे लगभग 50 लाख रूपये इकटठा करके वर्चुअल क्वाइन लांच लांच करने जा रहा था कि गिरफ्तार कर लिया। पुलिस अन्य वांछित अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए प्रयास कर रही है। उन्होंने बताया कि कंपनी के बैंक खाते में छह लाख बहत्तर हजार पांच सौ एकतालिस रूपये फ्रीज कराये गये। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्तों को थाना सेक्टर 58 नोएडा गौतमबुद्वनगर में दर्ज कर अग्रिम विधिक कार्रवाई स्थानीय पुलिस कर रही है।
 

Share this story