कोरोना के खिलाफ निर्णायक लड़ाई 16 जनवरी से टीकाकरण का होगा शंखनाद 

Newspoint24.com/newsdesk/


नई दिल्ली । केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि बहुप्रतीक्षित कोरोनावायरस टीकाकरण अभियान 16 जनवरी से शुरू हो जाएगा।

मंत्रालय ने एक बयान में कहा, तय किया गया है कि आगामी त्योहारों- लोहड़ी, मकर संक्रांति, पोंगल, माघ बिहू आदि को देखते हुए कोरोना वायरस  टीकाकरण 16 जनवरी 2021 से शुरू होगा।

टीकाकरण कार्यक्रम के शुरुआती चरणों में पहले स्वास्थ्यकर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स को प्राथमिकता दी जाएगी, जिनकी अनुमानित संख्या तकरीबन तीन करोड़ रुपये है। इसके बाद 50 साल से ऊपर की आयु वाले गंभीर बीमारियों के शिकार लोगों को टीका लगाया जाएगा, जिनकी अनुमानित संख्या 27 करोड़ के आसपास है।


तीन जनवरी को दो वैक्सीन, भारत बायोटेक कोवैक्सीन और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोविशिल्ड को आपातकालीन उपयोग के लिए अनुमोदित किया गया था।

पीएम  नरेंद्र मोदी ने शनिवार को टीकाकरण अभियान के लिए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की तैयारियों एवं समीक्षा को लेकर एक उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता की।

प्रधानमंत्री मोदी  ने विभिन्न मुद्दों को कवर करते हुएकोरोना  प्रबंधन की स्थिति की विस्तृत और व्यापक समीक्षा की। मोदी को वैक्सीन के रोल-आउट के लिए राज्य और केंद्रशासित प्रदेशों के साथ निकट सहयोग में केंद्र की तैयार स्थिति के बारे में भी बताया गया।

पीएम  को को-विन टीका वितरण प्रबंधन प्रणाली के बारे में भी बताया गया। अद्वितीय डिजिटल प्लेटफॉर्म वैक्सीन स्टॉक की वास्तविक समय की जानकारी, इसके भंडारण तापमान और कोरोना  वैक्सीन के लाभार्थियों की व्यक्तिगत ट्रैकिंग प्रदान करेगा।

यह मंच पूर्व-पंजीकृत लाभार्थियों के लिए स्वचालित सत्र आवंटन, उनके सत्यापन और वैक्सीन अनुसूची के सफल समापन पर एक डिजिटल प्रमाणपत्र बनाने के लिए सभी स्तरों पर कार्यक्रम प्रबंधकों की सहायता करेगा। मंच पर पहले से ही 79 लाख से अधिक लाभार्थी पंजीकृत हैं।

अभी तक 61,000 से अधिक कार्यक्रम प्रबंधक, दो लाख वैक्सीनेटर और 3.7 लाख अन्य टीकाकरण टीम के सदस्यों को राज्य, जिला और ब्लॉक स्तरों पर प्रशिक्षित किया गया है।

पीएम  को देशभर में आयोजित किए गए तीन चरणों के ड्राई रन से भी अवगत कराया गया। तीसरा ड्राई रन अभियान शुक्रवार को 33 राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों के 615 जिलों में 4,895 जगहों पर चलाया गया था।

Share this story