दिल्ली में निर्माण कार्य 21 नवम्बर तक और शैक्षणिक संस्थान अगले आदेश तक बंद रहेंगे गैस के अलावा, सभी उद्योग बंद होंगे 

Construction work in Delhi will be closed till November 21 and educational institutions will remain closed till further orders, except gas, all industries will be closed.

दिल्ली के अंदर 21 नवंबर तक 100 फीसद सरकारी विभागों में वर्क फ्रॉम होम रहेगा।

इसके अलावा, दिल्ली में स्कूल-कॉलेज, इंस्टीट्यूट, ट्रेनिंग सेंटर और

लाइब्रेसी आदि अगले आदेश तक बंद रखने का निर्णय लिया गया है।

Newspoint24/ संवाददाता /एजेंसी इनपुट के साथ 


नयी दिल्ली। दिल्ली सरकार ने सरकारी विभागों में वर्क फ्रॉम होम 21 नवंबर तक बढ़ा दिया गया है और स्कूल-कॉलेज समेत सभी शैक्षणिक संस्थान अगले आदेश तक बंद करने का निर्णय लिया है।

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बुधवार को बताया कि दिल्ली के अंदर बढ़े हुए प्रदूषण को रोकने के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में बैठक के बाद दिल्ली सरकार ने कुछ आपात कदम उठाए थे जिसके तहत 17 नवंबर तक सभी निर्माण और तोड़फोड़ गतिविधियों को बंद कर दिया गया था। दिल्ली सरकार की ओर से पहले लिए निर्णय और कल वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (एयर क्वालिटी मैनेजमेंट कमीशन) की हुई।

पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और दिल्ली की संयुक्त बैठक में दिए गए दिशा-निर्देश के आधार पर आज हमने अलग-अलग विभागों के साथ बैठक की। इस बैठक में दिल्ली के अंदर निर्माण और तोड़फोड़ गतिविधियों पर प्रतिबंध बढ़ाकर 21 नवंबर तक करने का निर्णय लिया गया है। दिल्ली के अंदर 21 नवंबर तक 100 फीसद सरकारी विभागों में वर्क फ्रॉम होम रहेगा। इसके अलावा, दिल्ली में स्कूल-कॉलेज, इंस्टीट्यूट, ट्रेनिंग सेंटर और लाइब्रेसी आदि अगले आदेश तक बंद रखने का निर्णय लिया गया है।

बसों और मेट्रो में खड़े होकर यात्रा करने पर रोक

उन्होंने कहा कि दिल्ली के बाहर से आवश्यक सेवाओं को छोड़कर अन्य ट्रक जो दिल्ली में प्रवेश करती हैं, उनको बंद करने का निर्देश दिया गया है। पुलिस विभाग और ट्रांसपोर्ट विभाग मिलकर इस आदेश का पालन सुनिश्चित कराएगा। दिल्ली के अंदर पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बढ़ाने के लिए एक हजार प्राइवेट सीएनजी बसों को हायर करने की प्रकिया कल से शुरू की जाएगी। हम एक हजार प्राइवेट सीएनजी बसों को हायर करके सड़क पर उतारेंगे, जिससे लोग पब्लिक ट्रांसपोर्ट का अधिक से अधिक उपयोग करें।

मेट्रो और डीटीसी की तरफ से डीडीएमए को पत्र लिखा गया है। अभी तक कोरोना की स्थिति की वजह से मेट्रो और डीटीसी बसों में केवल बैठ कर यात्रा करने की अनुमति है। बसों और मेट्रो में खड़े होकर यात्रा करने पर रोक है। इस संबंध में डीडीएम को पत्र लिख कर पुनर्विचार किया जाए और नया दिशा-निर्देश दिया जाए, जिससे कि इनमें यात्री क्षमता को बढ़ाया जा सके।

दिल्ली के अंदर गैस के अलावा, जो भी उद्योग चल रहे हैं, उसे बंद किया जाएगा

पर्यावरण मंत्री ने कहा कि दिल्ली के अंदर 10 साल पुरानी डीजल गाड़ियों और 15 साल पुरानी पेट्रोल की गाड़ियों की सूची ट्रांसपोर्ट विभाग की ओर से पुलिस विभाग को सौंपा गया है, जिसके आधार पर पुलिस इन वाहनों को सड़क पर चलने पर रोक लगाएगी। पीयूसी का पेट्रोल पंपों पर जांच अभियान चल रहा था, उसे और सघन किया जाएगा, जिससे कि प्रदूषण पैदा करने वाली गाड़ियों को रोका जा सके। इसके अलावा, अभी दिल्ली के अंदर 372 पानी छिड़काव के टैंकर काम कर रहे हैं। दिल्ली में चिह्नित 13 हॉटस्पॉट पर फायर ब्रिगेड की मशीनों को लगाया जाएगा, जिससे कि वहां पर पानी का छिड़काव और ज्यादा किया जा सके।

दिल्ली के अंदर गैस के अलावा, जो भी उद्योग चल रहे हैं, उसे बंद किया जाएगा। टीमें इनका निरीक्षण करेंगी और अगर प्रदूषित ईंधन पर कोई भी इंडस्ट्री चलती पाई जाती है, तो उस पर तत्काल कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा दसवें बिंदु पर हमने निर्णय लिया है कि जो ट्रैफिक जाम को खत्म करने के लिए ट्रैफिक पुलिस की स्पेशल टास्ट फोर्स बनाकर निगरानी करने का निर्देश दिया गया है, ताकि निर्बाध यातायात का आवागमन किया जा सके और जाम की वजह से होने वाले गाड़ियों के प्रदूषण को रोका जा सके। इसके अलावा, दिल्ली सरकार की ओर से चलाया जा रहा रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ कैंपेन को 15 दिन के लिए आगे बढ़ा दिया गया है।

यह भी पढ़ें :

सनराइज ओवर अयोध्या की आग घर तक पहुंची : सलमान खुर्शीद के नैनीताल आवास पर पथराव,आगजनी

दिल्ली में बेहद खतरनाक लेवल का प्रदूषण , अस्पतालों में ओपीडी मरीजों की संख्या 25 फीसदी तक बढ़ी

Share this story