पंचांग 02 अप्रैल 2021 शुक्रवार चैत्र कृष्ण पक्ष, पञ्चमी ( रंग पञ्चमी )

पंचांग  विभिन्न समयों या तिथियों पर आकाश में खगोलीय दशा या स्थिति का ब्यौरा देता है । पंचांग पांच अंगो से पूर्ण होता है 1  तिथि, 2  वार, 3  नक्षत्र, 4  योग, 5 करण यह पंचांग के पंच अंग हैं | खगोलशास्त्र और ज्योतिषी में विभिन्न पंचांगों का प्रयोग होता है। इतिहास में कई संस्कृतियों ने पंचांग बनाई हैं क्योंकि सूरज, चन्द्रमा, तारों, नक्षत्रों और तारामंडलों की दशाओं का उनके धार्मिक, सांस्कृतिक और आर्थिक जीवन में गहरा महत्व होता था। 

Newspoint24.com/newsdesk


आज का पंचांग

सूर्योदय    05:48 प्रातः 
सूर्यास्त    06:15 सायं 
चन्द्रोदय    11:25 प्रातः 
चन्द्रास्त    09:17 प्रातः 03 अप्रैल


तिथि    पञ्चमी - 08:15 ए एम तक उपरांत षष्ठी
योग    व्यतीपात - 11:41 रात्रि तक
करण    तैतिल - 08:15 प्रातः तक
गर - 07:03 सायं तक


पक्ष    कृष्ण पक्ष
वार    शुक्रवार


शक सम्वत    1942 शर्वरी
विक्रम सम्वत    2078 आनन्द
चन्द्रमास    चैत्र - पूर्णिमान्त
फाल्गुन - अमान्त


चन्द्र राशि    वृश्चिक - 03:44 प्रातः , अप्रैल 03 तक
सूर्य राशि    मीन
सूर्य नक्षत्र    रेवती
नक्षत्र पद    ज्येष्ठा - 10:53 प्रातः तक


द्रिक ऋतु    वसन्त
द्रिक अयन    उत्तरायण
वैदिक अयन    उत्तरायण


ब्रह्म मुहूर्त    04:15 प्रातः
अभिजित मुहूर्त    11:37 प्रातः से 12:27 मध्यान 
विजय मुहूर्त    02:06 मध्यान से 02:56 मध्यान
गोधूलि मुहूर्त    06:02 सायं  से 06:26 सायं
अमृत काल    07:31 सायं से 09:00 रात्रि 
निशिता मुहूर्त    11:38 रात्रि  से 
रवि योग    03:44 प्रातः 


राहुकाल    10:28 मध्यान( दोपहर )  पूर्व  से 12:02 मध्यान तक 
यमगण्ड    03:08 दोपहर से 04:42 दोपहर
गुलिक काल    07:22 प्रातः  से 08:55 प्रातः 
दुर्मुहूर्त    08:18 प्रातः से 09:07 प्रातः
वर्ज्य    10:33 प्रातः से 12:03 मध्यान तक 
गण्ड मूल    पूरे दिन


आनन्दादि योग    चर - 03:44 प्रातः से , अप्रैल 03 तक
होमाहुति    गुरु    
दिशा शूल    पश्चिम
अग्निवास    पृथ्वी
चन्द्र वास    उत्तर - 03:44 प्रातः , अप्रैल 03 तक
नक्षत्र शूल    पूर्व - 03:44 प्रातः , अप्रैल 03 तक
राहु वास    दक्षिण-पूर्व


इन  राशि के लिए उत्तम चन्द्रबलम 03:44 ए एम, अप्रैल 03 तक


 वृषभ मिथुन कन्या वृश्चिक मकर कुम्भ


 समय 12 - घण्टा प्रारूप में वाराणसी, भारत के स्थानीय समय और डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है) के साथ दर्शाये गए हैं।

Share this story