महराजगंज में नाव से दुल्हन लेने पहुंचा दूल्हा:नदी पार करके आई दुल्हन, दूसरे गांव के लोग नहीं करते हैं शादी

महराजगंज में नाव से दुल्हन लेने पहुंचा दूल्हा:नदी पार करके आई दुल्हन, दूसरे गांव के लोग नहीं करते हैं शादी

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ

 

महराजगंज । बाढ़ जैसे हालात बने हुए हैं। बाढ़ के बीच जहां आम जनमानस अपने आप को सुरक्षित करने की जद्दोजहद में जुटा हुआ है वहीं जिले से एक अनोखी तस्वीर सामने आई है। नौतनवा थाना क्षेत्र के सेमरहवा गांव में नए नवेले दूल्हे राजा देर रात बारातियों संग अपनी दुल्हन को लेने नदी से नाव के रास्ते ससुराल पहुंचे।

नदी पर ही ससुराल के लोगों ने जमकर स्वागत किया। नदी को नाव के सहारे पार करते समय बाराती डरे, सहमे नजर आ रहे थे। एक तरफ मायके से विदाई का गम तो दूसरी तरफ मुश्किल भरा डगर, जहां हर कदम जोखिम भरा हो। इसका वीडियो सामने आया है।

आज दूल्हा विजय यादव अपनी दुल्हन को लेकर नाव से नदी को पार करता हुआ नजर आया। किसी तरह से दूल्हे राजा बारातियों का हुजूम लेकर और जान जोखिम में डालकर शादी करने में सफल हो गए और उनकी यह शादी यादगार बन गई।

महराजगंज में दूल्हा नाव से दुल्हन को विदा करवाकर गांव पहुंचा।

महराजगंज में दूल्हा नाव से दुल्हन को विदा करवाकर गांव पहुंचा।

7 हजार के करीब है आबादी
सेमरहवा गांव नौतनवा तहसील क्षेत्र में पड़ता है और यहां की आबादी लगभग 7 हजार के करीब है। यह एक तरफ जंगल से घिरा है तो दूसरी तरफ नेपाल से बहकर आने वाली रोहिणी नदी बहती है। ऐसे में अब यहां के लोग इसी रोहिणी नदी को पार कर अपने घरों को आते जाते हैं।

मुश्किल से पानी के बीच से दुल्हन को विदा करवाकर लाया गया।

मुश्किल से पानी के बीच से दुल्हन को विदा करवाकर लाया गया।

दूसरे गांव के लोग नहीं आते
हालत ये हैं कि इस गांव में दूसरे गांव के रहने वाले लोग अपनी बेटियों का ब्याह किसी भी कीमत पर नहीं करना चाहते हैं। सेमरहवा गांव में रहने वाले अधिकांश नवयुवक अविवाहित हैं। यही वजह है कि जब भी यहां पर मांगलिक कार्यक्रम होता है तो वर और वधू पक्ष अपनी जान को जोखिम में डालकर शादी विवाह की रस्मों को निभाते हैं।

Share this story