वाराणसी : ज्ञानवापी में सर्वे-वीडियोग्राफी शुरू, वादी-प्रतिवादी पक्ष के 36 लोग परिसर के अंदर 

Survey-videography started in Gyanvapi, 36 people of plaintiff-defendant side inside the premises

सर्वे के दौरान वादी, प्रतिवादी, एडवोकेट, एडवोकेट कमिश्नर, उनके सहायक और सिर्फ सर्वे से संबंधित लोग ही होंगे। ज्ञानवापी परिसर में और कोई नहीं होगा।

कमिश्नर कहीं भी फोटोग्राफी के लिए स्वतंत्र होंगे। चप्पे-चप्पे की वीडियोग्राफी की जाएगी। जिला प्रशासन ताले को खुलवाकर या ताले को तुड़वाकर भी सर्वे कराएगा। डीजीपी और चीफ सेक्रेटरी मॉनिटरिंग करें।
सर्वे पूरा कराने की जिम्मेदारी DM, पुलिस कमिश्नर की व्यक्तिगत तौर पर होगी।

Newspoint24/ newsdesk / एजेंसी इनपुट के साथ

वाराणसी।  ज्ञानवापी में सर्वे-वीडियोग्राफी शुरू हो गया है। एडवोकेट कमिश्नर अजय मिश्र, उनके सहयोगी और वादी-प्रतिवादी पक्ष के 36 लोग परिसर के अंदर पहुंचे हैं। प्रशासन ने ज्ञानवापी परिसर के चारों तरफ 500 मीटर तक पब्लिक की एंट्री बंद करा दी है। करीब एक किमी. के दायरे में 1500 से ज्यादा पुलिस और पीएसी के जवान सुरक्षा में लगे हैं। सर्वे दोपहर 12 बजे तक चलेगा। 

 ज्ञानवापी मस्जिद सर्वेक्षण के लिए सुरक्षा व्यवस्था पर डीसीपी काशी जोन आरएस गौतम ने बताया कि लोगों को किसी भी तरह की असुविधा न हो, दर्शन अच्छे से हो और सब कुछ ठीक रहे।  इसके लिए पुख्ता इंतजाम हैं। 

सुरक्षा के लिहाज से ज्ञानवापी का पूरा इलाका सील

ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे के लिए नियुक्त एडवोकेट कमिश्नर चौक थाने से निकल गए हैं। उनके साथ विशेष कमिश्नर और सहायक कमिश्नर भी हैं। सुरक्षा के लिहाज से पुलिस-प्रशासन ने पूरे इलाके को सील कर दिया है। साथ ही विश्वनाथ मंदिर के गेट नंबर चार एंट्री प्वाइंट से पहले ही मीडिया को भी रोक दिया गया है।


 

 

 अंडरग्राउंड सेल से शुरू होगी वीडियोग्राफी: वकील

ज्ञानवापी सर्वे को लेकर यूपी के वाराणसी में मस्जिद के आस-पास के इलाके में पुलिसकर्मी तैनात किये गए हैं। 


कोर्ट ने सर्वे कराने की जिम्मेदारी एडवोकेट कमिश्नर अजय मिश्र को सौंपी है। उनके साथ स्पेशल कमिश्नर और असिस्टेंट कमिश्नर भी हैं।

ज्ञानवापी के 500 मीटर के दायरे में हर चौराहे पर बैरिकेडिंग लगा कर रास्ते बंद कर दिए गए हैं।

ज्ञानवापी के अंदर सर्वे के लिए 36 लोगों की टीम गई है, सभी के मोबाइल बाहर ही जमा करा लिए गए हैं।

हिंदू पक्ष के वकील मदन मोहन यादव ने बताया कि शनिवार को सभी को सुबह साढ़े 7 बजे गेट नंबर 4 ज्ञानवापी परिसर पर हाजिर होने को कहा गया है। पूरे परिसर की वीडियोग्राफी के लिए विशेष कैमरा और लाइट की व्यवस्था है। गर्भगृह यानी तहखाने में बिजली की व्यवस्था नहीं है। इसके लिए टीम बैटरी लाइट लेकर जाएगी। ज्ञानवापी के चारों तरफ सीआरपीएफ का कड़ा पहरा है। जहां वीडियोग्राफी होगी, उसे सुरक्षा के लिहाज से रेड जोन में शामिल किया गया है।

सर्वे के दौरान वादी, प्रतिवादी, एडवोकेट, एडवोकेट कमिश्नर, उनके सहायक और सिर्फ सर्वे से संबंधित लोग ही होंगे। ज्ञानवापी परिसर में और कोई नहीं होगा। कमिश्नर कहीं भी फोटोग्राफी के लिए स्वतंत्र होंगे। चप्पे-चप्पे की वीडियोग्राफी की जाएगी। जिला प्रशासन ताले को खुलवाकर या ताले को तुड़वाकर भी सर्वे कराएगा। डीजीपी और चीफ सेक्रेटरी मॉनिटरिंग करें।

सर्वे पूरा कराने की जिम्मेदारी DM, पुलिस कमिश्नर की व्यक्तिगत तौर पर होगी। जिला प्रशासन कोई भी बहाना बनाकर सर्वे की कार्रवाई को टालने का प्रयास नहीं करेंगे।

यह भी पढ़ें :  ज्ञानवापी मस्जिद और श्रृंगार गौरी मंदिर मामला : मुस्लिम फाउंडेशन की महिलाओं ने वीडियोग्राफी के विरोध के बीच समर्थन किया

Share this story