सपा नेता आजम खान को हार्ट अटैक, दिल्ली के गंगाराम हॉस्पिटल में एडमिट

SP leader Azam Khan heart attack, admitted to Delhi's Ganga Ram Hospital
कुछ दिनों पहले आजम सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर जेल से रिहा हुए थे। बताया जा रहा है कि पिछले दिनों आजम खान ने सांस लेने में तकलीफ और सीने में दर्द की शिकायत की, जिसके बाद उन्हें मेदांता अस्पताल लाया गया। यहां पर डॉक्टरों की एक टीम ने जांच के बाद उन्हें निगरानी के लिए आईसीयू में भर्ती किया था।

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ

रामपुर। सपा नेता आजम खान को हार्ट अटैक आया है। इसके चलते डॉक्टरों ने उनके हार्ट में स्टंट लगाया है। उनकी हालत अब स्थिर बताई जा रही है। अभी वह दिल्ली के सर गंगाराम हॉस्पिटल में एडमिट हैं।

परिवार के लोगों के मुताबिक, सोमवार को आजम खान के सीने में दर्द उठा था। उनको बहुत पसीना आ रहा था। इसके बाद उन्हें एंबुलेंस से दिल्ली के सर गंगाराम हॉस्पिटल ले जाया गया। डॉक्टरों ने एंजियोग्राफी की तो आजम खान के हार्ट में ब्लॉकेज मिला।

ये फोटो सपा नेता आजम खान की है। तबियत खराब होने के चलते उन्हें दिल्ली के सर गंगाराम हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

(ये फोटो सपा नेता आजम खान की है। तबियत खराब होने के चलते उन्हें दिल्ली के सर गंगाराम हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।)

कल हॉस्पिटल से हो सकते हैं डिस्चार्ज
मंगलवार को डॉक्टरों ने ऑपरेशन कर हार्ट में स्टंट लगाया। इसके बाद उन्हें कार्डिएक वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। परिजनों ने बताया कि आजम खान का ऑपरेशन सफल रहा है। तबियत अब पहले से बेहतर है। गुरुवार को उन्हें हॉस्पिटल से डिस्चार्ज किया जा सकता है।

कोरोना के समय गंभीर हुई थी हालत
कोरोना काल के दौरान ही संक्रमित हो चुके आजम खान अपने कारावास के वक्त से ही खराब सेहत से परेशान हैं। कोरोना के समय अस्पताल में उनकी हालत काफी गंभीर थी और उन्हें कई हफ्ते तक मेदांता अस्पताल में ही रहना पड़ा था। खराब सेहत के आधार पर आजम ने कई बार जेल से जमानत भी मांगी थी। लेकिन यूपी की अदालतों से उन्हें राहत नहीं मिली।

पहले मेदांता में कराए गए थे भर्ती
कुछ दिनों पहले आजम सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर जेल से रिहा हुए थे। बताया जा रहा है कि पिछले दिनों आजम खान ने सांस लेने में तकलीफ और सीने में दर्द की शिकायत की, जिसके बाद उन्हें मेदांता अस्पताल लाया गया। यहां पर डॉक्टरों की एक टीम ने जांच के बाद उन्हें निगरानी के लिए आईसीयू में भर्ती किया था।

यह भी पढ़ें : बरेली: अग्निवीर भर्ती में फर्जी दस्तावेज लेकर पहुंचे दो युवक, सेना ने पुलिस को सौंपा

Share this story